अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वह चाँद आने वाला है

सुबह का इंतज़ार,
शाम तक किया है।
चुपके से उठकर,
घर के दरवाज़े का
एक पलड़ा खोल दिया है,
कि वह चाँद आने वाला है।


अँधेरों ने मेरे घर को घेर रखा है,
कहीं आँखों को,
तो कहीं क़दमों को बाँध रखा है।
फिर भी लड़खड़ाकर सँभलकर,
एक चिराग़ जला रखा है,
कि वह चाँद आने वाला है।


वहीं वह एक क्षण था।
जिसमें मैंने और तुमने,
एक जीवन गुज़ारा था।
वर्षों बाद तुम फिर आने वाले हो,
इसलिए क़दमों को रोक रखा है,
कि वह चाँद आने वाला है।


वह काग़ज़ का पन्ना,
उसी तरह मोड़ कर रखा है
जिस तरह तुमने मुझे दिया था।
वह स्याही उसी तरह फैली हुई है,
जब लिखा था तुमने मेरा नाम।
आज उस पन्ने को मैंने टटोल रखा है,
कि वह चाँद आने वाला है।


आख़िरी बार तुम्हें याद है करुणा,
जब निकला था तुम्हारे घर से,
तुमने खिड़कियों से देखा था मुझे,
आँसुओं को पोंछते हुए।
आज मैंने खिड़कियों पर,
चेहरा लगा रखा है।
कि वह चाँद आने वाला है।


वह स्कूल का नलका सूना पड़ा है,
वह स्कूल की घंटी भी सूनी है,
जिसके बजते ही,
जब हम अपने-अपने 
घर को विदा हुए थे।
और अंतिम बार उस नलके को,
चलाकर तुमने पानी पिलाया था मुझे।
आज फिर इस रात में प्यासा बैठा हूँ,
कि वह चाँद आने वाला है।


वह टूटी हुई साइकिल की तीलियाँ,
तुम्हें याद है न करुणा।
जिसपे बैठकर स्कूल जाते वक़्त,
एक गड्ढे में गिर गये थे हम-तुम।
आज अँधेरों में 
उसी साइकिल के पास,
चुपचाप खड़ा हूँ।
कि वह चाँद आने वाला है।


उस रात हम-तुम 
रातभर जगे थे न करुणा,
जब मु़ड़कर मैंने जाना चाहा था।
तो तुमने कसकर 
मेरा हाथ पकड़ लिया था,
और कहा था- 
मुझे डर लग रहा है देव!
आज मैं रातभर डरते-डरते,
तुम्हारा इंतज़ार कर रहा हूँ,
कि वह चाँद आने वाला है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं