अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वज्रपात

मैं मृत्यु का बन के चारण
अब सबको सत्य बताऊँगा
मैं रौद्र रूप कर के धारण
अब समर कराने आऊँगा
 
अश्रुकण को मैं भाप बना
अब घोर घात करने आया
वरदान कहीं अभिशाप बना
मैं वज्रपात करने आया
 
क्यों मेरी कविता मौन रहे?
शब्दों से युद्ध करूँगा अब
क्यों रौद्र भावना गौण रहे?
अश्कों को क्रुद्ध करूँगा अब
 
मैं सूरज प्राची को दिलवा
रश्मि से बात करूँगा अब
गाण्डीव सव्यसाची को दिलवा
तिमिर के साथ लड़ूँगा अब
 
वो लहू बहाते सीमा पर
कुछ घर में बैठे हँसते हैं
वीरों को मौत नहीं आती
वो अमरत्व में बसते हैं
 
एक बेटा माँ का मरता है
है आँचल सूना हो जाता
पछताता भाग्य पर हूँ अपने
उस माँ का बेटा हो पाता!
 
कर्मठ यौवन सीमा पर है
रक्तिम सावन सीमा पर है
एक राम दिखाई पड़ता है
सहस्त्र रावण सीमा पर हैं
 
सीने पर उसके है भारी
शत स्वप्नों का बाज़ार लगा
अरमानों की भीड़ लगी
वो करने सब साकार चला
 
उनके कर्तव्यों पर लेकिन
आवाज़ उठाते हैं कायर
बन जाओ वीरता के चारण
क्यों बनते प्रेम भरे शायर?
 
वो चलता सागर चीर सदा
दिखता छोटा हिमराज वहाँ
काँधे पर रख कर वीर सदा
अस्त्र से करता आग़ाज़ वहाँ
 
संसद की चौखट पर मैंने
लाँछन उस पर लगते देखा
कुर्सी की ख़ातिर नेता ने
है देशप्रेम बिकते देखा
 
क्या ख़ून नहीं खौलेगा अब?
क्या भूखंड नहीं डोलेगा अब?
मैं चुप होकर क्या जी लूँगा?
क्या कवि नहीं बोलेगा अब?
 
साँसों को रोकना कठिन नहीं
शब्दों को कैसे रोकोगे?
तुम कुकुर बनो, मैं एकलव्य
भर शर मुँह में क्या भौंकोगे?
  
चेताता हूँ मैं, चुप रहना
वीरों को अपशब्द न कहना
वरना स्याही का छोड़ प्रयोग
मैं अस्त्र उठा कर आऊँगा,
मैं वज्रपात कर जाऊँगा॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं