अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वाराणसी में गिरता पत्‍थर

मैं कल जब यहाँ था 
ठीक उसी समय 
बस में सवारी करते हुए 
कार चलाते हुए 
बाइक से घर लौटते हुए 
मैं वाराणसी में भी था
सुबह ऑफ़िस जाते वक़्त बेटी ने कहा था 
पापा शाम आज बर्थडे है मेरा 
केक लाना मत भूलना
लौटते वक़्त मैंने केक को 
कार की पिछली सीट पर सँभाल कर रखा था
कॉलेज के लिए निकलते वक़्त माँ ने याद दिलाया था 
बेटा लौटते वक़्त दवाई लाना मत भूलना 
वरना पूरी रात बीतेगी खाँसते खरोसते हुए
लौटते वक़्त मैंने दवाइयों को 
बाइक के हैंडल पर लटका रखा था 
आज सुबह लाठी के सहारे चलकर 
पत्‍नी ने डबडबाई आँखों से कहा था
नाती-पोतों को ले आओ बड़ा मन है उनसे मिलने का
शाम को मैं, बस में अपनी पोती के संग घर लौट रहा था
आहिस्‍ता आहिस्‍ता
बाइक, कार, ऑटो और बसों में
गंगा किनारे सड़कों पर रेंग रही थी ज़िंदगियाँ 
उस पल ज़िंदगी की रफ़तार धीमी थी 
क्‍योंकि शहर में विकास की कलियाँ खिल रही थीं 


अचानक गंगा के शहर में वज्रपात हुआ 
विकास का एक पिल्‍लर 
धम्‍म से ज़मीन पर औंधे मुँह गिर पड़ा 
और नीचे दबकर ख़ाकसार हो गई 
बाइक, कार, ऑटो और बसों में रेंग रही ‍ज़िंदगियाँ 
लिखने से पहले ही मिटा दी गई कई कहानियाँ 
अनसुनी कर दी गई सारी प्रार्थनाएँ 
जो गूँज रही थीं ब्रिज के पास बने मंदिरों और मस्जिदों में
 

सड़क की दूसरी ओर एक पागल चिल्‍ला रहा था 
कंक्रीट के जंगल क़ुर्बानी माँगते हैं....
कंक्रीट के जंगल क़ुर्बानी माँगते हैं....
मगर उसकी अवाज़ 
क्रंदन, चित्‍कार और ट्रैफ़िक के शोरगुल में दब गई

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं