अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वसन्त के तीन रूप

1.
प्रकृति को सजाने को
देखो बसंत आया है
हाथों में शृंगारदान लाया है
मल मल बना दी स्वर्णिम काया
लाल पीले फूलों से है फिर सजाना
प्रकृति को प्यार देने
देखो बसंत आया है
इत्रों की सौगात लाया है
बौरों और फूलों से सजाया है तन
मदमाती गंध से उकसाया है मन
प्रकृति का सर देने
देखो बसंत आया है
पतझड़ का उदहारण लाया है
मृत्यु का उत्सव नवजीवन का स्वागत
ज़िंदगी का है सच ज़िंदगी का है सच

2.
धरती तैयार है
आसमान को छूने
शहरी हवाओं में
हाय रे, समय तूने क्या काम किया
सबने मुँह फेर लिया
जंगल बन गए मैदान
निजता को सरे आम किया
नदियों को भी ज्ञान दिया
गरीब अमीर का विवेक भर दिया
सुख गई वो अब गरीबों के घर पास
सूरज का भी कान भर दिया
क्रोधित रहता हम पर
तप तप जब तब क्रोधित होता
पहाड़ो तुम भी हटते जा रहे हो
तुम तो स्थिर कहलाते थे
कैसे तुम घुलते जाते हो

3.
कहाँ गुम हो गए हो बसंत
छोड़ चुके हो पहाड़ों ओर जंगलों को
स्थायी हो गए हो बड़े बड़े बंगलों में
अब तो शीताको में ही साँस लेते हो
तुम तो सबके थे
अब तो महलों में ही रहते हो
सूरज की तरह सबके बनो
जरा धुप में भी तो आओ
आओ धरती की भी तो सुनो
तितलियों यहाँ भी महक है
फूल नहीं हुए तो क्या हुआ
मेहनत की चमक है
पसीने का पानी है
पसीने की गमक है

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं