अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वयं राष्ट्र

देशभक्ति गीत
 

नील धवल हिमगिरि का मस्तक
सागर चरणों को चूमे।
वयं राष्ट्र भारत का परचम
विश्व पताका बन घूमे।


केसरिया है शौर्य हमारा
श्वेत शांति का परिचायक
विजयी विश्व अशोक चिन्ह है
हरा रंग सब सुख दायक।
विजयी विश्व तिरंगा प्यारा
आओ इसको नमन करें।
सत्य न्याय का ये संवाहक
तन मन धन से यजन करें।


इक सौ तीस करोड़ आत्म जन
ध्वज हृदयङ्गम कर झूमे।
वयं राष्ट्र भारत का परचम
विश्व पताका बन घूमे।


सजला सफला माँ वसुन्धरे
शास्वत सुयश गीत में तुम
ज्ञान रश्मि गौरव से पूरित
तुझको नमन करें सब हम
सभी धर्म अरु सभी जातियाँ
तेरे अंक समाहित हैं।
गीता वेद कुरान ग्रन्थ सब
तेरे नभ में वाहित हैं।


विश्व मंच अभिभूत देखता
तेरा गौरव नभ चूमे।
वयं राष्ट्र भारत का परचम
विश्व पताका बन घूमे।


विश्व शिखर की ओर बढ़ें हम
घृणा बैर को हम छोड़ें।
दिग दिगंत हो नाम हमारा
सारे बंधन हम तोड़ें।
आओ श्रम की ज्योति जलाएँ
करें उजाला भागे तम।
राष्ट्र गगन की दिव्य ज्योति पर
जीवन करें निछावर हम।


मातृभूमि की सेवा करते
प्राण विसर्जित कर झूमें।
वयं राष्ट्र भारत का परचम
विश्व पताका बन घूमे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अबके बरस मैं कैसे आऊँ
|

(रक्षाबंधन पर गीत)   अबके बरस मैं कैसे…

अम्बर के धन चाँद सितारे 
|

अम्बर के धन चाँद सितारे   प्रथम किरण…

अवध में राम आए हैं
|

हर्षित है सारा ही संसार अवध  में  …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख

लघुकथा

व्यक्ति चित्र

गीत-नवगीत

दोहे

कविता

साहित्यिक आलेख

सिनेमा और साहित्य

कहानी

बाल साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

किशोर साहित्य नाटक

किशोर साहित्य कविता

ग़ज़ल

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं