अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

विकासशील सभ्यता

वो कैसे चलते है, कैसे बोलते है
कैसे हँसते है क्या करते है
अपने जीवन में उतारना सभ्यता है
सभ्यता कुछ वर्षो में तेजी से बढ़ी है
पैसे की धूल से पायजामें के नाड़े तक
सभ्यता जो हज़ारों साल तक
पैरों की धूल पर धूल खाती पड़ी थी
उसकी जगह चमड़े के जूते ने लेली है
सभ्यता जो कहकहों में कही जाती थी
मुस्कराहटों में विकसित हो रही है
सभ्यता जो कबाड़ रूपी नकारों के
घर में सजने से सजती थी
अब वृद्धाश्रम में शोभित है
सभ्यता जो घूँघट के अंदर भी शरमाती थी
अब लो-कट ब्लाउज में भी बैचेन होती है
सभ्यता जो ताजी रोटी से बमुश्किल ज़िन्दा थी
आज ब्रेड सेवन से हष्टपुष्ट पहलवान है
हर पुराने को आँखे खोलकर भी भूल जाओ
हर नए को आँखें बंदकर भी अपनाओ
हर पुरानी चोटी, लोकगीत, गिल्ली डंडा और बुढढा
हर नई बंदूक, दारू, जेल और अड्डा
जल्दी करो वरना -
सभ्यता दूसरो की रखैल बन जाएगी

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं