अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

विश्व कविता दिवस

(मेरी Amazon Kindle Book ‘युग प्रवाह का दर्पण’ २०१९ से उद्धृत) 

(सन्दर्भ : विश्व कविता दिवस २१ मार्च के अवसर पर एक चिंतन) 

  

कविता है एक साधना जीवन के समीकरण में 

शीतल सुरभित मंद पवन शिक्षा के बाग़-बग़ीचा में 

भावों के सागर से निकले जीवन के अनुपम मोती 

उनको कैसे क़ैद करें शब्दों की सीमित शक्ति में?  

 

थके हुए मन के तन्तु स्पंदित होते क्षण भर में  

जब काव्य पीयूष का एक बूँद मिल जाए अँजुरी में 

भाषा देती है सुन्दर काया, अलंकार आभूषण 

शब्दों की माला गूँथ जाती व्याकरण की डोरी में। 

 

कविता की रचना में होते जीवन के सातों रंग 

प्रेम, प्रणय, और भावुकता के मोहक श्रव्य प्रसंग  

वाक् चातुरी, व्यंग्य मनोहर, विवेकशील वक्तव्य 

जिनके सम्यक समावेश से धन्य हुआ साहित्य। 

 

गगन लिखे जब काव्य गीत, तारे दीप जलाएँ 

धरती आई दुल्हन बनकर, क्षितिज लुटाए रंग 

रिमझिम वर्षा से आए कर्णप्रिय सरगम के शोर   

काव्यमयी बन गई प्रकृति, पाठक हुए विभोर !! 

 

अपनी भाषा, अपनी शैली, कविता है अपनी पहचान 

‘काव्य दिवस’ की महफ़िल में हम गाएँ अपना गान 

यह दिवस अनोखा विश्व-मंच पर, रखें इसका ध्यान 

हिन्दी की अनमोल विरासत, उसका लें समुचित संज्ञान। 

 

देश, काल, बौद्धिक विकास, का सुन्दर कोष महान 

युगों युगों की ज्ञान-मंजूषा – कविता है जिसका नाम 

देश-विदेश के बन्धन से होती अपरिचित, अनजान   

अपनी भाषा, अपनी शैली, कविता है अपनी पहचान!! 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

एकांकी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं