अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

व्याख्या

सारे सम्बन्ध हमारे,
किसी औरत के साथ.
गर्भ से बिस्तर तक के 
विभिन्न “प्रक्रमो” 
तक ही सीमित होंगे,
मन की गाँठें खोलकर भी उसकी,
हम अधिकतम, “अध्ययन”
ही कर पाएँगे, उनका.. शायद, 
और वह अपूर्ण होगा, निश्चय ही,

 

क्यूँ?
जवाब बहुत आसन है साधो,
तुम चाह कर भी 
माँ नहीं बन सकते,
किसी माँ की भूमिका 
निभा लो अगर चाहो तो,

 

बहुत समझोगे गूढ़ता 
सशक्तिकरण की तो,
संवेदनशील हो जाओगे.. 
मुद्दों पर, मगर फिर भी, 
अपने सीने के उभार कभी
शायद ही भार लग पाएँ तुम्हें,
माना बर्तन झाड़ू खाना में
हाथ बँटाओगे उसके साथ,
बिना रंज के भी,
मगर कुछ कामों से 
अपना जन्मजात नाता
कभी नहीं जोड़ पाओगे तुम..

 

तुम कभी औरत 
नहीं हो पाओगे, बंधु,
बर्तन झाड़ू खाना
या कोई "ज़िम्मेदारी" निभाते वक़्त,
तुम्हे अपने तन को ढँकने की 
परवाह नहीं करनी होगी,
अपने ईगो और 
कम्फर्ट लेवल के भी परे..

 

और हर ऐसे वक़्त, 
तुम जहां में शायद, 
स्तर उठा रहे होगे 
अपना, कुछ नज़रों में। 
अनायास ही भले..
पर इस बात से बेपरवाह,
कि कोई क़ीमत नहीं 
होती इन कामों की,
अगर हाथ पुरुष के न हों तो..

 

जानते हो और 
क्यों है नामुमकिन,
किसी औरत को महसूस कर पाना,
एक इतिहास है उसका भी,
तुम्हारी ही तरह, 
तुम्हारी वीरता के 
पन्नों के बीच बिखरा,
पर जिसे बाक़ायदा कन्विंस करके,
छुपाया नहीं गया है तुमसे..

 

नहीं लिख सकते हो 
तुम औरत को,
अपनी कविता में,
तुम्हारी जागरूकता,
कर्तव्यबोध या नैतिकता
 पर आधारित होगी,
और औरत की..?
उससे जुड़ी गर्भनाल है,
जो उसे दुनिया में साँस लेने भर का 
पोषण लेने की आज्ञा देती है..

 

हमारे लिखे भावुकतम शब्द भी,
किसी औरत के बलात्कार 
की व्याख्या से ज़्यादा 
कुछ नहीं हो सकते..!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं