अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वक़्त नाज़ुक है

वक़्त नाज़ुक है, ज़रा सँभल कर चल रहा हूँ,
आजकल मैं एक नए साँचे में ढल रहा हूँ,
ज़िंदगी दे रही है सबक़ पे सबक़,
इम्तेहानों की तपिश में एक मुद्दत से जल रहा हूँ।
 
हर तरफ़ तकलीफ़ों ने डाल रखा है घेरा,
निगाहें जिधर डालूँ उस तरफ़ है अँधेरा,
तू ही बता ऐ मालिक किस तरह बसर करूँ,
जी लूँगा हर हालात में गर हुक्म हो ये तेरा।
 
ये रात बहुत लंबी है ग़मों की इस दफ़ा,
क्या ख़ता हुई है मुझसे जो हो गया है तू ख़फ़ा,
ये अंजाम ए करतूत है या इम्तेहान की घड़ी है
हर शख़्स ख़िलाफ़ है हर शख़्स है बेवफ़ा।
 
मुखौटे पहनकर घूमते हैं बाज़ारों में,
एक-एक शख़्स है बेहिसाब किरदारों में,
मतलब के हिसाब से मुखौटे बदलते हैं,
ईमान बेचकर दौलत को भगवान बनाया सारों ने।
 
न ईमान की फ़िक़्र है न ख़ुदा का डर है,
फ़ायदा हो जिधर भी ये बस उधर है,
न बातों में सच्चाई है,न रहम दिलों में बाक़ी है,
आदमख़ोरों से ज़्यादा अब इंसानों का क़हर है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा लगा
|

तेरा ज़िंदगी में आना, अच्छा लगा  हँसना,…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं