अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

यात्रा

स्मरण नहीं लेकिन
असंख्य कल्पों की बात ठहरी यह
स्मृतिपटल पर तुम्हारे हाथों से
भिक्षापात्र लेकर शुरू की गई
एक दीर्घकालिक यात्रा याद आती है
 
भिक्षाटन करती रही युगों युगांतरों तक
संसार डालता रहा पात्र में
प्रणय, घृणा, विभत्सता, शोक
तुच्छता, दया, स्नेह का अन्न
किंतु जब मुड़कर तुमको देखती
तुम्हारा सौम्य दृष्टिनिक्षेप
मुझे वीतरागी कर देता
 
पुनः तुम तक आने की अभीप्सा में
बैठी रही अडिग प्रतीक्षारत मैं
पलक बंद होने तक का व्यवधान
न आने दिया इंतज़ार में

थक कर जब कभी नींद आती
तो स्वप्न में दिखता एक प्रपात
जो ऊर्ध्वगामी हो उल्टा बहता
अपने मूल की ओर
एकाकी, निर्बंध
 
सायंधृति के बाद कहीं दूर क्षितिज से
धीमे धीमे आती पखावज की ध्वनि
सरस सारंगी की धुन
और नर्तन करने लगते आँखों के सामने
तुम संग भोगे अतीत के क्षण
 
देह के अपने धर्म
लेकिन, हृदय की साधना
“अरण्य नीरवता” में लीन है

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं