अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

युग प्रवर्तक नारी

युगों को पैरों से धकेल,
मिथ्या भ्रांतिओं को खदेड़,
लड़ कर सब से अकेले,
आगे बढ़ रही नारी।
 
कभी संस्कारों के बोझ तले दबाया गया,
कभी सही-ग़लत के पैमाने पर आँका गया,
कभी नियमों के दायरे में बाँधा गया,
कभी सिद्धांतों की साड़ी में लपेटा गया।
 
और……
 
कभी कर्तव्यों की बात कर भावों से खेला गया,
कभी फ़र्ज़ों की दुहाई दे मौन कर दिया गया,
कर्मों का कभी ज़िक्र छेड़ चौखट से बाँधा गया,
कभी ईश्वर की बात कर घर-मंदिर दिखाया गया।
 
फिर भी बनी न बात तो…..
  
बल के प्रयोग से रौंदा गया,
तेज़ाब फेंक जलाया गया,
मानहानि हुई, ज़िल्लत मिली,
डरा के क़ैद कमरे में किया गया।
 
और साहस देखो उम्मीद ऐसी कि…...
 
झेले सब चुप चाप नारी,
मुँह बंद रखे चाहे पीड़ा हो भारी,
ना माँगे क़ैद से आज़ादी,
रहे सदा पुरुषों की आभारी। 
 
फिर आया ऐसा युग…..
 
उत्थान का मार्ग स्वयं प्रशस्त कर,
निकल पड़ी निडर एकल,
कब तक आख़िर मौन रहती,
सब पत्थर बन निर्दोष सहती,
रातों को मरना, बल से कुचला जाना,
तन-मन से खेलना, एकदम चुप रहना,
 
कब तक आख़िर सह पाती नारी?
 
और फिर…....
 
युगों को पाँव से धकेल,
पुरातन समय को खदेड़,
नया युग, अपना युग लाती नारी,
युग प्रवर्तक बन युग ही बदलती नारी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं