अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ज़िंदगी! वही है न जो...

ज़िंदगी वही है न...
जो वृक्ष के ठूँठ के गर्भ में
पल्लवित  नयी कोपलों की है,
या फिर,
ठूँठ के दम तोड़ देने पर
समाज द्वारा तिरस्कृत  हो
बाँझ उपाधि से नवाज़े जाने की है।


ज़िंदगी वही है न...
जो पल्लवित कोपलों के
शिशु आकार ले लेने की है,
या फिर,
कली के आगमन की सूचना पा
उसे तोड़ देने की है।


ज़िंदगी वही है न...
जो अल्हड़, उमंगित,
तरंगित बचपन की है,
या फिर,
ईश्वर के कुठराघात को सहन कर
बचपन के दम तोड़ देने की है।


ज़िंदगी वही है न...
जो स्वप्निल दुनिया में क़दम रख
यौवन के उन्मादपन की है,
या फिर,
अभिलाषाओं की चिता पर
अपनों के महल खड़ा करने की है।


ज़िंदगी वही है न...
जो ज़िम्मेदारियों के बोझ से
कंधों के झुक जाने की है,
या फिर,
सदियों पुराने आँगन के वृक्ष का
अनुपयोगी समझ कट जाने की है।


ज़िंदगी वही है न...
जो समझौतों की ज़ंजीर में क़ैद हो
स्वप्नों को कुचल देने की है,
या फिर,
सब दरकिनार कर
उन्मुक्त गगन में उड़ान भर लेने की है।


ज़िंदगी वही है न...
जो भय के आलिंगन में
स्वयं को बाँधें रखने की है,
या फिर,
अग्रसर हो, मौन तोड़
स्वयं के अस्तित्व को स्थापित करने की है।


ज़िंदगी वही है न...
जो पहाड़ों के वक्षस्थल को चीरकर
गतिशीलता के उद्देश्य को पूर्ण करने की है,
या फिर,
दम्भ से भर, विध्वंस कर,
सन्नाटों को आमंत्रित कर
फिर से थम जाने की है।


ज़िंदगी वही है न...
जो एक पाँव से संसार की
ऊंचाइयों को फतह कर लेने की है,
या फिर,
तानों से, निराशा से परास्त हो
स्वयं को समाप्त कर लेने की है।

ज़िंदगी वही है न...
जो दुर्गम बर्फ़ीली घाटियों में
कस्तूरी की चाह में उन्मादित होने की है,
या फिर,
विचारों के झंझानिल से मुक्त हो
इस घृणित कानन में स्थिर हो
स्वयं को पा लेने की है।


ज़िंदगी वही है न...
जो अपने अहंकार के ताप से
मानवता का विनाश करने की है,
या फिर,
प्रकाश बन
सर्वत्र समभाव से
जग को प्रकाशित करने की है।

ज़िंदगी वही है न...
जो.....!!!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं