अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दीपक राज कुकरेजा 'भारतदीप'

निवास : आनंद नगर, ग्वालियर (मध्य प्रदेश)
प्रकाशन : देश भर के अनेक समाचार पत्रों में हास्य-व्यंग्य, कवितायेँ, कहानी समसामयिक विषयों पर आलेख। आध्यात्म विषयों पर चिंतन तथा संपादकीय प्रकाशित
विभिन्न समाचारपत्रों में संपादन कार्य का भी अनुभव
रुचियाँ : प्रात: योगासन, ध्यान और प्रार्थना करना। श्रीगीता और वाल्मीकि रामायण का श्रद्धा पूर्वक अध्ययन करना तथा लेखन कार्य करना।
आत्मकथ्य :    
मेरा बचपन से ही आध्यात्म की तरह रुझान रहा है और मेरा मानना है की भारतीय आध्यात्म में ही केवल व्यक्ति के मन को शांति प्रदान करने की शक्ति है। विश्व में चल रही किसी भी विचारधारा से कोई प्रतिबद्धता नहीं है। साथ ही यह भी मानना है की धर्म का मतलब ही भ्रम है और किसके नाम पर लोगों को ऐसे कर्मकांडों में लगाया जाता है जिनका कोई तार्किक आधार नहीं है। लोग कहते हैं की सब धर्मों का सम्मान करना चाहिए पर मेरा मानना है की सब धर्मों का पुनर्वालोकन किया जाना चाहिए कि उनका उद्देश्य विश्व में शांति करना है या समूचे मानव समाज की शक्ति कुछ तथाकथित धर्म के ठेकेदारों के हाथ में सौंपना है। लोगों को खुलकर जीना चाहिए। धर्म और आध्यात्म दो अलग-अलग विषय हैं ऐसी मेरी मान्यता है।
 ब्लॉग : 

इन ब्लोग पर नियमित रूप से लेखन कार्य कर रहा हूँ।

 

लेखक की कृतियाँ

सामाजिक आलेख

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं