अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

गुरवरन सिंह

मैं लुधियाना का रहने वाला हूँ और मेरा जन्म भी यहीं ८ जून १९८७ को हुअ है। मैंने बी.ए. २००७ में पंजाब विश्चविद्यालय, चंडीगढ़ से की है। प्राईवेट संस्थान से वैब एंड डिजिटल डीज़ाईनिंग में डिप्लोमा किया है और अभी पंजाब टैक्नीकल यूनिवर्सिटी से पी.जी.डी.सी.ए. कर रहा हूँ।

लेखन कॉलेज के दिनों से शुरू किया। अधिकतर किवताएँ/नज़्में, लेख/निबन्ध, कहानियाँ एवं बाल कहानियाँ आदि लिखता हूँ। मैं हर विषय पर लिखना पसन्द करता हूँ, अधिकतर सामाजिक विषय अधिक पसन्द करता हूँ। मुझे लिखने का शौक अपनी माता जी बलविन्द्र कौर से पड़ा। मेरी माँ भी ग़ज़लें लिखती हैं उन्हीं की प्रेरणा से कलम उठाई।

मेरी रचानाएँ दैनिक जागरण, अमर उजाला, अजीत समाचार, वीर प्रताप, रोजाना स्पोक्समैन आदि समाचार पत्रों में प्रकाशित हुईं।

लेखक की कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं