अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डॉ. ललित सिंह राजपुरोहित

डॉ. ललित सिंह राजपुरोहित का जन्‍म दिनांक 26 अगस्‍त 1979 को राजस्‍थान के बीकानेर शहर में हुआ। बीकानेर शहर को छोटी काशी के साथ-साथ मरुस्‍थली टीलों एवं ऊंटों की नगरी भी कहा जाता है। बीकानेर शहर ने साहित्‍य के क्षेत्र में कई कीर्तिमान स्‍थापित किए हैं। डॉ. ललित सिंह को बचपन से ही साहित्‍य सृजन में रुचि थी। डॉ. ललित सिंह ने हिंदी में एमए, एमफिल तथा पीएचडी की है। पीएचडी में उनका शोध का विषय "भारत सरकार के सभी सार्वजनिक उपक्रमों में राजभाषा कार्यान्वयन की स्थिति" था। 

डॉ. ललित सिंह की रंगमंच सक्रिय भूमिका रही, कॉलेज के दिनों में प्रतिष्ठित रंगकर्मियों के साथ, बीकानेर, जयपुर,  दिल्‍ली तथा बेरेली के प्रसिद्ध नाट्योत्‍सवों में अपनी प्रस्‍तुति दी।  लेखन एवं रंगमंच साथ-साथ चलते रहे।  राष्‍ट्रीय नाटक  अकादमी, नई दिल्‍ली द्वारा राष्‍ट्रीय स्‍तर आयोजित नाटक लेखन प्रतियोगिता में डॉ. ललित सिंह को प्रोत्‍साहन पुरस्‍कार प्राप्‍त हुआ। डॉ. ललित सिंह द्वारा रचित कविताएँ, कहानियाँ क्षेत्रीय अख़बारों एवं पत्र-पत्रिकाओं में समय-समय पर प्रका‍शित होती रही हैं।  पत्रकारिता एवं संपादन के क्षेत्र में लेखक ने खेतेश्‍वर संदेश नामक मासिक पत्रिका का प्रकाशन किया जो प्रारंभिक अंकों के बाद बंद हो गई। लेखक ने दैनिक भास्‍कर तथा राष्‍ट्रदूत जैसे समाचार पत्रों में भी काम किया। इसी दौरान डॉ. ललित सिंह को उसकी क़िस्‍मत बेंगलूरु खींच लायी जहाँ उन्‍होंने राजभाषा अधिकारी के पद पर आईटीआई लि‍मिटेड, सरकारी उपक्रम में काम किया। इसके बाद डॉ. ललित सिंह ने ओएनजीसी की सहायक कंपनी मंगलूर रिफ़ाइनरी एवं पेट्रोकेमिक्‍ल्‍स लिमिटेड ज्‍वाइन कर लिया। मंगलूरु स्थित इस कंपनी में लेखक 'राजभाषा अधिकारी' के पद पर तैनात हैं तथा राजभाषा हिंदी के कार्यान्‍वयन संबंधी कार्यों को देख रहे हैं। मंगलूरु शहर में विभिन्‍न संगठनों / हिंदी सेवा समितियों के साथ राजभाषा हिंदी प्रचार प्रसार के कार्यों से जुड़े हैं। एमआरपीएल द्वारा प्रकाशित एमआरपीएल प्रतिबिंब नामक गृह पत्रिका का संपादन डॉ. ललित सिंह द्वारा किया जा रहा है। 

प्रकाशित पुस्‍तकें :

लेखक की कृतियाँ

कहानी

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं