अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डॉ. महेश परिमल

भोपाल, म.प्र.
जन्म: हर वर्ष का मानसून 
शिक्षा: एम.ए. हिंदी, भाषाविज्ञान, पीएच.डी. (भाषाविज्ञान)
मातृभाषा: गुजराती
भाषाज्ञान: गुजराती, हिंदी, अँग्रेज़ी, छत्तीसगढ़ी, बाँग्ला, पंजाबी
संप्रति: स्वतंत्र लेखन
अन्य: 
डॉ. महेश परिमल का नाम साहित्य और मीडिया जगत में जाना-पहचाना नाम है। समाचार पत्र-पत्रिकाओं में यह नाम यदा-कदा पढ़ने को मिल ही जाता है। छत्तीसगढ़ की सौंधी माटी में जन्मे एक किशोर का जीवन संघर्ष युवावस्था में उसे एक लेखक बना देता है और फिर पत्रकारिता का ककहरा सीखते-सीखते वही लेखक एक समीक्षक के रूप में अपना स्थान बना लेता है। जी हाँ, डॉ. महेश परिमल मूलत: एक लेखक हैं, किंतु स्वभावत: हम उन्हें एक समीक्षक मान सकते हैं। जो व्यक्ति शब्द तो क्या अक्षर भी ग़लत लिखा गया हो, तो अपने विचारों को गति नहीं देता, पहले उसे ठीक करता है और उसके बाद उन्हें शब्द और फिर वाक्य में परिवर्तित करता है, ऐसा जुनूनी लेखक अनायास ही समीक्षक बन जाता है। ज़मीन से जुड़ा लेखन उनकी पहचान रहा है। वे कभी कोरी कल्पना में नहीं जीते और न ही चाहते हैं कि उनका पाठक वर्ग कल्पनाओं की नदी में गोता लगाते हुए आशा-निराशा के भँवर में उलझे। वे जैसे साधारण हैं, वैसी ही सादगी और सरलता के साथ ज़मीनी हक़ीक़त तो अपनी लेखनी में उतारते हैं और पाठक वर्ग को सच्चाई का सामना करने के लिए प्रेरित करते हैं। भाषाविज्ञान में पीएच.डी. का गौरव प्राप्त कर वे लेखन क्षेत्र में सतत आगे बढ़ रहे हैं। "लिखो पाती प्यार भरी", "अनदेखा सच", "अरपा की गोद में" के बाद "मेरी-तेरी उसकी लोरी" उनकी चौथी कृति है। 

लेखक की कृतियाँ

ललित निबन्ध

सामाजिक आलेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं