अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डॉ. राधिका गुलेरी भारद्वाज

कुवैत
जन्म : धर्मशाला, हिमाचल प्रदेश, इंडिया। २००१ से कुवैत में सपरिवार निवास
शिक्षा : सूक्ष्मजीव विज्ञान में पीएच. डी.
उपलब्धियाँ  : विज्ञान के क्षेत्र में लगभग १० शोधकार्य अन्तर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में बतौर सह-लेखक प्रकाशित हैं। एमएसई (सूक्ष्मजीव) में गोल्ड मैडल और कौंसिल ऑफ़ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सी एस आई आर) द्वारा शैक्षिक सम्मान।
संप्रति : कुवैत विश्वविद्यालय में सन् १००३ से सहयोगी शोधकर्ता के पद पर कार्यरत हूँ।
विशेष : साहित्य सागर मेरे लिए - साहित्य की दुनिया में नवजात शिशु समान हूँ। मन में उथल-पुथल मचाती भावनाओं को काग़ज़ पर लिखना बहुत अच्छा लगने लगा है।

भारत के सुप्रसिद्ध लेखक व कवि श्री चंद्रधर शर्मा गुलेरी के वंश से सम्बन्धित होना मेरे लिए गर्व की बात है। पिताजी डॉ. पीयूष गुलेरी हिमाचल के हिंदी तथा हिमाचली भाषा के जाने-माने व् स्थापित हस्ताक्षर हैं। साहित्यिक परिवार में जन्म व परवरिश को मैं लेखन में रुझान का मुख्य कारण मानती हूँ और इसीलिए शायद मेरा अधिकतर वक़्त विज्ञान से जुड़े रहने के बावजूद साहित्य से लगाव कभी ख़त्म नहीं होता।

लेखक की कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं