अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

समीक्षा तैलंग

जन्म : 1976, ग्वालियर (म.प्र.)
शिक्षा : बी.एससी. जीवाजी विश्वविद्यालय, ग्वालियर (म.प्र.)
सृजन : ग्वालियर में जन्म होने के बावजूद "अनुकृति" का जन्म बुंदेलखंड के छतरपुर में हुआ।
लिखने की प्रतिभा को निखारने के लिए देशकाल अनुरूप था। मराठी भाषी होने के पश्चात भी हिंदी से ही अपनापन लगा तो लिखना सहज हो गया। अलग-अलग विषयों पर लेख, निबंध, भाषण लिखने से पहचान मिली। फलस्वरूप आकाशवाणी ने कई महत्वपूर्ण विषयों पर परिचर्चा के लिए आमंत्रित किया। ग्वालियर के मुख्य दैनिक पत्रों में कई लेख व व्यंग्य प्रकाशित हुए। स्नातक होने के पश्चात वहाँ के मुख्य समाचार पत्र तथा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बतौर पत्रकार काम किया।
कार्यक्षेत्र में - इंटरव्यू - सुषमा स्वराज, सुमित्रा महाजन, सुश्री उमा भारती, हेमा मालिनी आदि
डॉक्युमेंटरी -पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी,
निबंध -"विवेकानंद शिकागो में", "स्वराज से सुराज तक - लोकमान्य तिलक”
फीचर -"तानसेन अलंकरण पं. स्व.श्री बाला साहब पूंछवाले”,
“भारत का प्रथम इंटरनेट राज्य, मध्यप्रदेश"
प्रकाशन : रुलाई मार गई , भिखारी दान और भ्रष्टाचार, देश का दुर्भाग्य और राजनीतिकरण, हिन्दी में अन्य भाषा के शब्दों का प्रयोग हिंदी के लिए एक आशीर्वाद, फीचर ओजस्विनी पत्रिका में प्रकाशित
ब्लॉग पर - रंग, बाज़ारू हवा, पृथ्वी तू क्यों है रोती??, भविष्य के वक्ता
सम्मान : 1998 "प्रथम महिला पत्रकार ग्वालियर" - पत्र लेखक मंच।
संप्रति : विवाह के पश्चात एक लंबे अंतराल के बाद पुनः अपनी रुचि को आगे बढ़ाने का कार्य गत 1-2 वर्षों से कर रही हूँ। वर्तमान में आबू धाबी (यू.ए.ई.) में रहकर लेखन कार्य कर रही हूँ।
अभिरुचि : लेखन, पठन, संगीत
ब्लॉग : "अनुकृति"
 

लेखक की कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं