अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

’अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो’ पुस्तक को ’इंडिया बुक ऑफ़ रिकार्डस’ द्वारा मान्यता

सुदर्शन सोनी द्वारा लिखी पुस्तक ’अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो’ एक ऐसा व्यंग्य संग्रह जिसके सभी 34 व्यंग्य केवल कुत्तों पर केन्द्रित हैं। अपनी तरह की पहली पुस्तक होने के कारण यह चर्चा में रही। प्रसिद्ध व्यंग्यकार आलोक पुराणिक द्वारा इसे संपूर्ण एशिया की केवल श्वानों पर लिखे व्यंग्यों की पहली कृति माना गया है। डाक्टर ज्ञान चतुर्वेदी जी द्वारा इसे व्यंग्य में नया प्रयोग कहा है। इसी कड़ी में इसे ’इंडिया बुक ऑफ़ रिकार्डस्’ नई दिल्ली द्वारा केवल कुत्तों पर लिखे 34 व्यंग्य संग्रह का एक रिकार्ड बनाया जाना मानते हुये लेखक सुदर्शन सोनी को 21 मार्च 2020 को रिकार्ड की मान्यता देते हुये प्रमाण पत्र व मैडल प्रदान किया है। लेखक ने बताया कि वे अब गिन्नीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्डस् व गोल्डन बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्डस में भी अपना दावा पेश करेंगे। ज्ञातव्य हो कि लेखक को इस किताब को संकलित करने की प्रेरणा उनके प्रिय डॉगी रॉकी की वर्ष 2017 में आकस्मिक मृत्यु से मिली थी। लेखक द्वारा पुस्तक अपने डॉग  ’प्रिय रॉकी को समर्पित’ की गयी है। किसी लेखक द्वारा अपने कुत्ते को पुस्तक समर्पित करने का भी यह संभवतया पहला मौक़ा था। 

’इंडिया बुक ऑफ़ रिकार्डस’ द्वारा लेखक को इस पुस्तक हेतु अब वर्ल्ड रिकार्ड युनिवर्सिटी में दावा पेश करने का आमंत्रण व सुझाव भी दिया गया है। शीघ्र ही पुस्तक के संबंध में चर्चा व रचना पाठ का एक कार्यक्रम भोजपाल साहित्य संस्थान द्वारा रखा जायेगा । भोजपाल साहित्य संस्थान श्री सोनी की इस उपलब्धि के लिये बधाई देता है। ज्ञातव्य हो कि श्री सुदर्शन सोनी भोजपाल साहित्य संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष भी हैं।

प्रियदर्शी खैरा 
अध्यक्ष भोजपाल साहित्य संस्थान 
90/91 यशोदा विहार चूना भटटी भोपाल 

हाल ही में

अन्य समाचार