अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

भोजपाल साहित्य संस्थान, भोपाल की मासिक काव्य गोष्ठी दिनांक 28 सितम्बर 2019 को भोपाल में संपन्न

साहित्य के क्षेत्र में निरंतर सक्रिय संस्था, भोजपाल साहित्य संस्थान, भोपाल की मासिक साहित्यिक गोष्ठी का आयोजन दिनांक 28 सितम्बर 2019 को भोपाल हाट परिसर स्थित ’9 एम मसाला रेंस्तरां’ में किया गया। कार्यक्रम संस्था के कार्यकारी अध्यक्ष श्री सुदर्शन सोनी की अध्यक्षता, वरिष्ठ साहित्यकार श्री अशोक व्यास के मुख्य आतिथ्य में संपन्न हुआ। 

कार्यक्रम में वरिष्ठ व्यंग्यकार श्री अशोक व्यास, दुर्गारानी श्रीवास्तव,  श्री के के दुबे, श्री जयपाल सिंह, सुश्री सरिता, श्री चन्द्रभान राही आदि उपस्थित थे। श्री अशोक व्यास द्वारा सशक्त  सामयिक व्यंग्य ’मेरे अनमोल रतन आयेंगे’, दुर्गारानी श्रीवास्तव द्वारा कविता ’नार्यस्तु पूजयंते  के देश में पशु घूमते मनुज के वेष में’ का  श्रोताओं को मुग्ध करने वाला पाठन किया। चन्दभान राही द्वारा शेर ’जब जब हमें पीठ में खंजर लगा है हमने अक्सर अपने को दोस्तों के बीच पाया है’ का पाठ किया गया। मुम्बई से पधारी सुश्री सरिता द्वारा वॉलीवुड पर हास्य कविता का पाठन किया। संस्था के कार्यकारी अध्यक्ष सुदर्शन सोनी द्वारा व्यंग्य ’कवि सम्मेलन आयोजन के लिये पापड़ बिलाई’ का पाठ किया जिसे खूब सराहा गया।  कार्यक्रम का संचालन श्री चन्द्रभान राही व आभार प्रदर्शन दुर्गारानी श्रीवास्तव द्वारा किया गया।  

- प्रियदर्शी खैरा 

हाल ही में

अन्य समाचार