अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

गुरुपूर्णिमा पर्व के अवसर पर सम्मानित हुए क़लम-कला साधक 

आगरा- विश्वशांति मानव सेवा समिति के कार्यालय में बृजलोक साहित्य-कला-संस्कृति अकादमी के सौजन्य से देशभर के साहित्यकारों, कलाकारों, पत्रकारों को सम्मानित किया गया। उपर्युक्त कार्यक्रम गुरुपूर्णिमा पर्व के पावन अवसर पर आयोजित किया गया। उक्त कार्यक्रम में मुख्यरूप से जयकिशन सिंह एकलव्य को उनकी क़लम साधना के लिए साहित्य साधक सम्मान उपाधि से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर जिन अन्य महानुभावों को सम्मानित किया गया वे हैं -

राहुल सिंह (मुंबई - महाराष्ट्र), रेशमा शेख (मुंबई - महाराष्ट्र), दिव्या कुमारी जैन (चित्तौड़गढ़ - राजस्थान), एस.डी. ओमी प्रताप (वाराणसी - उ. प्र.), डॉ. राजेन्द्र श्रीवास्तव (फैजाबाद - उ. प्र.), भेरूलाल जैन (कलकत्ता - पं. बंगाल), सनातन कुमार वाजपेयी सनातन (जबलपुर - म. प्र.), बादल प्रयागवासी (प्रयागराज - उ. प्र.), शिव बक्श सागर प्रजापति (फैजाबाद - उ. प्र.), चित्रकार खलीक अहमद खाँ (फैजाबाद - उ. प्र.), सुनील कुमार दिवाकर (लखनऊ - उ. प्र.), शाह आलम (जालौन - उ. प्र.), आचार्य शीलक राम (रोहतक - हरियाणा), सी. एल. दीवाना हिन्दुस्तानी (रीवा - म. प्र.), श्रीमती आभा गुप्ता इन्दौरी (रीवा - म. प्र.), शंकर लाल माहेश्वरी (भीलवाडा - राजस्थान), गौरीशंकर वैश्य विनम्र (लखनऊ - उ. प्र.), आफताब आलम (मुंबई - महाराष्ट्र) आदि।

गौरतलब है कि बृजलोक अकादमी अपनी सहयोगी संस्थाओं के संयुक्त बैनर तले साल-भर में चार बार इस तरह के कार्यक्रमों का आयोजन करती है। ये अवसर हैं मकर संक्रांति, होली, गुरूपूर्णिमा और दीपावली। अगला आयोजन दीपावली पर होगा। इस हेतु देशभर से साहित्यकार, कलाकार, पत्रकार अपनी प्रविष्टियाँ पूर्णतः निशुल्क भिजवा सकते हैं। 

सभी उपस्थित महानुभावों का आभार माना मुकेश कुमार ऋषि वर्मा ने और अपनी उपस्थिति दर्ज करायी मोहर सिंह निषाद, राकेश वर्मा, अवधेश कुमार, राजकुमार, प्रीतम, राहुल आदि ने।

रिपोर्ट - मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

हाल ही में

अन्य समाचार