अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रिय मित्रो 

पिछले कुछ दिनों से दिल्ली में हूँ। एक दो बार उबर द्वारा घूमने के बाद अब मैट्रो में उतर आया हूँ। मैट्रो के दो स्टेशन घर से पाँच मिनट की दूरी पर हैं। दिल्ली मैट्रो के द्वारा कहीं भी जाना न केवल सुविधाजनक है बल्कि एक अनूठा अनुभव भी है जो केवल भीड़ में ही मिल सकता है। यह अनुभव लेखकों के लिए पौष्टिक आहार है। कितनी ही कहानियों के कथानक भीड़ में मिलते हैं; चेहरों पर कितनी कविताएँ लिखी होती हैं; संवाद हवा में तैरते है - इस तथ्य को कार से नीचे उतर कर पैदल चलकर ही समझा जा सकता है। जो दिल को छू जाता है वह कहीं न कहीं और कभी न कभी आपकी लेखनी की नोक पर आ ही जाता है। 

भीड़ की एक सामूहिक चेतना होती है - परन्तु भीड़ से अपने आपको अलग करती हुई एकाकी चेतना कहानी होती है और उस चेतना की संवेदना कविता। मैं यह नहीं कह रहा कि कहानी में संवेदना नहीं होती क्योंकि संवेदना के बिना साहित्य का अस्तित्व ही नहीं है - चाहे कोई भी विधा हो।  परन्तु कविता कोरी शुद्ध संवेदना की अभिव्यक्ति होती है। कहानी में कोई संवेदनहीन पात्र हो सकता है पर कविता में पात्र, विषय और लेखक एक ही तो होते हैं। कविता अद्वैत अभिव्यक्ति होती है। और कहानी… अद्वैत होते हुए भी कथानक के कई पात्रों को अपने में समेटती है। मैं नहीं जानता कि जो लिख रहा हूँ क्या वह निरर्थक प्रलाप है या कोई सार्थक विचारों की अभिव्यक्ति। हो सकता है कि यह मेरी ही व्यक्तिगत मानसिकता का पन्ने पर उतरा प्रेक्षपण है। 

पिछले कुछ महीनों में बहुत से युवा लेखक साहित्य कुञ्ज के साथ जुड़े हैं और यह संपादकीय परोक्ष रूप से उन्हीं को संबोधित कर रहा है। देख रहा हूँ इस लेखक वर्ग में लिखने का साहस और ऊर्जा दोनों ही है। आवश्यकता है कि ऊर्जा को सही दिशा दिखाने की। कुछ लेखक कहानी को अपने आस-पास देखते हैं पर उससे अपनी आत्मा को विलग रखते हैं, उसे उद्वेलित नहीं करने देते। ऐसी कहानी एक समाचार या रिपोर्ट बन जाती है। वह पात्रों की संवेदना को अपनी संवेदना नहीं बनने देते तो उनकी कहानी ऐसे सामने आती है जैसे एक मित्र दूसरे को कल देखी फ़िल्म की कहानी सुना रहा हो। 

साहित्य की कोई भी विधा को आसान या कठिन नहीं कहा जा सकता। परिश्रम और साधना साहित्य से अलग नहीं है। साधना भीड़ में रहते हुए भी एकान्त जीवन जीने की कला है। तभी तो लेखक सारी भीड़ को, उसकी संवेदनाओं को अपने समेट कर एकान्त में रचना का सृजन करता है। यह साधना नहीं है तो क्या है?

चाहे कहानीकार हो या कवि दोनों में एक-से अनुभव एक-से भावों के जनक होते हैं - क्योंकि भावनात्मक होना मानव होना है। परन्तु कुछ विशिष्ट आत्माएँ होती हैं जो इन अनुभवों को आत्मसात कर लेती हैं और उनकी संश्लिष्ट अभिव्यक्ति का लिखित रूप साहित्य बन जाता है। लेखक की दृष्टि विशिष्ट दृष्टि है जो वह देखती है जिसे आम व्यक्ति नहीं देख पाता। लेखक का हृदय एक विशिष्ट हृदय होता है जो उस पीड़ा को आत्मसात करता है जिसे आम व्यक्ति अनुभव नहीं कर पाता। लेखक की चेतना विशिष्ट चेतना है जो उस ऊर्जा को आत्मसात करती है जिसका उत्सर्जन हर व्यक्ति का प्रभामंडल करता है। नए लेखकों को यह समझने की आवश्यकता है कि जो दायित्व सृजन शक्ति ने आपको दिया है आप उसको गम्भीरता से लें। कोई भी जन, लेखक नहीं हो सकता। दैविक दायित्व आपको मिला है, इस दायित्व को समझें और इसका निर्वहन भी गम्भीरता से करें। साधना अनिवार्य है इसके बिना सृजन असम्भव है। साधना केवल आँखें मूँद कर मंत्रोच्चारण तक ही सीमित नहीं है। लेखक की साधना आँखें खोल और चैतन्य रहते हुए समाज के अमृत और विष को आत्मसात करने की है। सो मित्रो आप सभी शिव हैं, सभी ब्रह्मा हैं। 

- सुमन कुमार घई
 

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

सम्पादकीय (पुराने अंक)

2021

2020

2019

2018

2017

2016

2015