अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शायरी - नज़्म

क्ष ख् ज्ञ त्र श-ष श्र 1 2 3 4 5 6 7 8 9

  1. अच्छा लगा
  2. अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
  3. अब के बहार आए ज़माना गुज़र गया
  4. अब हमने हैं खोजी नयी ये वफ़ायें
  5. अरमां है, तुम्हारे दर्दे ग़म की दवा हो जाऊँ

ऊपर

  1. आईने के रूबरू
  2. आगाज़
  3. आब-ए-हैवाँ दे दे....

ऊपर

  1. इश्क़ का रंग
  2. इश्तिराक!
  3. इस बार की बारिश

ऊपर

ऊपर

  1. उतनी ही मेरी कमाई है
  2. उनकी निगाहों के वार देखिये
  3. उफ़ ये बेबसी

ऊपर

ऊपर

  1. ए शहर, देख लौट आया हूँ मैं
  2. एक दिल सीने में
  3. एक बार रुख़े रोशन से

ऊपर

  1. ऐ ज़िन्दगी

ऊपर

ऊपर

ऊपर

  1. कई ज़माने रखता हूँ
  2. कल और आज
  3. कायनात साज़िश क्यूँ करती है?
  4. के बाक़ी नहीं है अब 
  5. कैसे आ गई है 
  6. क्या जवाब देंगे हम
  7. कफ़न
  8. क़रार
  9. क़ुर्बत इतनी न हो कि वो फ़ासला बढ़ाये
  10. क़फ़स की क़ैद

क्ष ऊपर

ख् ऊपर

  1. खिड़की 
  2. खुला नया बाज़ार यहाँ
  3. ख़याल रखना
  4. ख़ानाबदोशी
  5. ख़ुद को कोस रहा है

ऊपर

  1. गर है कहीं तो आकर
  2. गुनगुनाते रहे

ऊपर

ऊपर

  1. चौराहा

ऊपर

ऊपर

  1. जान के नाम
  2. जाने किन बातों की
  3. जिस रोज़ हर पेट को
  4. जिसकी आँख से आँसू गिरा ही नहीं
  5. जिसे नसीब ने बख्शा उसे गवां बैठे
  6. जुगाड़
  7. जो ग़म है सीने में दबाये बैठे हैं
  8. ज़रूरत है
  9. ज़िन्दगी
  10. ज़िन्दगी का ढाँचा
  11. ज़िन्दगी को मज़ाक में लेकर
  12. ज़िन्दगी तेरी हर इक बात हसीं

ज्ञ ऊपर

ऊपर

ऊपर

ऊपर

ऊपर

ऊपर

ऊपर

  1. तनहा 
  2. तन्हा सफ़र
  3. तब और अब 
  4. तस्वीर बना दे कोई
  5. ता’सबों के सौदागर
  6. तुझ से मुकम्मल थी ज़िन्दगी
  7. तुम इस शहर में सुकूँ ढूँढते हो
  8. तू भी दुःखी है
  9. तूफ़ानों में उनके छोड़ जाने...
  10. तेरा उपनाम
  11. तेरी तस्वीर
  12. तेरे नाम की नज़्म 
  13. तो ग़ज़ल होती है

त्र ऊपर

ऊपर

  1. थोड़ा वक़्त लगेगा

ऊपर

  1. दंगा
  2. दर्द के क़िस्सों की ख़ातिर वक़्त किसके पास है
  3. दर्द देगी यहाँ साफ़गोई सदा
  4. दर्द-ए-हिंदुस्तान
  5. दिल बेक़रार क्यों है?
  6. दिल्लगी में दिल का लगाना ख़राब है
  7. दीवार
  8. दूसरा आदमी

ऊपर

ऊपर

  1. नव वर्ष (भुवन चन्द्र उपाध्याय)
  2. नहीं अब ओंठ हिलते हैं नहीं आवाज़ होती है

ऊपर

  1. परवरिश
  2. पहली दफ़ा

ऊपर

  1. फ़साना लिख दूँ
  2. फ़ुरसत में आज की रात

ऊपर

  1. बंद कमरे में (क़फ़स)
  2. बंद दरवाज़े
  3. बदस्तूर
  4. बयाँ होंगे
  5. बरसती बारिशों की धुन पे लम्हें गुनगुनाते हैं
  6. बर्बाद ज़माने को गोया
  7. बिखर रहा हूँ मेरे दोस्त
  8. बुरे दिन हों तो
  9. बेनज़ीर

ऊपर

ऊपर

  1. मरहूम गर तू है
  2. माना कि उसमें जज़्बा ख़ूब
  3. मुनाफ़ा
  4. मुमकिन ही नहीं
  5. मुसलमान कहता मैं उसका हूँ
  6. मुहब्बत
  7. मुहब्बत का जुनूँ मरा नहीं करता
  8. मेरा रोशनी से कोई नाता नहीं
  9. मेरा साया
  10. मेरी आँखों में किरदार नज़र आता है
  11. मेरी सालगिरह की शाम
  12. मेरी हस्ती
  13. मेरी ख़्वाहिश
  14. मेरे लिए ईमां आसां
  15. मेरे ख़ुदा
  16. मैं और मेरा घर
  17. मैं जानता न था...
  18. मैं तो केवल इस फ़िज़ां में
  19. मैं तो गूँगी थी तुम भी बहरे निकले
  20. मैं बस लिखती हूँ
  21. मैं मुम्बई हूँ
  22. मोहब्बत के सफ़र पर
  23. मोहब्बत में अश्क की क़ीमत कभी कमती नहीं

ऊपर

  1. यह कैसी तबलीग़!

ऊपर

  1. राह दिखाएँ भी क्यों

ऊपर

  1. लाशों का शहर बन बैठा है, आज हर एक शहर

ऊपर

  1. वो लम्हा (राजेंद्र कुमार शास्त्री ’गुरु’)
  2. वो सब फ़साने चले गए
  3. वो सृष्टि का कर्ता है सृष्टि का कारण
  4. वक़्त
  5. वक़्त नाज़ुक है
  6. वफ़ायें तो हुई है अब..

श-ष ऊपर

  1. शहर में जो भी मिला
  2. शहर है भीड़ है बस
  3. शिक्षक
  4. शिद्दत सह नहीं सकते
  5. शुक्रिया

श्र-श ऊपर

ऊपर

  1. सवाल (धर्मेन्द्र सिंह ’धर्मा’)
  2. सिर्फ़ तेरे लिए लिखता हूँ मैं
  3. सड़कें ख़ून से लाल हुईं
  4. सफ़र (महेश पुष्पद)

ऊपर

  1. हमने उनके वास्ते सब कुछ गँवाया
  2. हमारी लाश का यूँ जश्न
  3. हमें ख़ुदा होना है
  4. हर कोई अपना था
  5. हर तरफ़ है छिड़ी समय को..

ऊपर

ऊपर

1 ऊपर

  1. 1984 का पंजाब

2 ऊपर

3 ऊपर

4 ऊपर

5 ऊपर

6 ऊपर

7 ऊपर

8 ऊपर

9 ऊपर