अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

31 - अपनी भाषा अपने रंग

20 जुलाई 2003

अपनी भाषा अपने रंग

पिछले माह डॉक्टर भागीरथ ने आकर हमें बहुत प्रभावित कर दिया था बहुत से कवियों और लेखकों के नाम गिनाकर। साथ ही वायदा भी किया कि आगामी कवि सम्मेलन में मुझे अवश्य बुलाकर ओटावा की कवि मंडली से मेरा परिचय कराएँगे। साथ ही कविता पाठ करने का मौक़ा देंगे। सुनते ही हम तो गदगद हो गए और अपना कविता संग्रह "रोशनी की तलाश में" तुरंत उन्हें भेंट में दिया। कुछ ज़्यादा ही मीठी ज़ुबान में उनसे बातें करते रहे जब तक वे हमारे घर रहे। बड़ी ही बेसब्री से इनके आमंत्रण की प्रतीक्षा करने लगे पर वह दिन आया कभी नहीं। एक लंबी सी साँस खींचकर रह गए। 

कल ही पाटिल दंपति आए। ललिता पाटिल बहू की अंतरंग सहेली है। उससे पता लगा कि 28 जून को तो वह कवि सम्मेलन हो भी चुका है जिसकी चर्चा मि. भागीरथ ने की थी। उस कवि सम्मेलन के संगठनकर्ता पूरा तरह से वे ही थे। अब हम क्या करते? हाथ ही मलते रह गए। लेकिन हमसे इतनी नाराज़गी! कारण कुछ समझ नहीं आया। कम से कम सूचना तो दे देते। हम इंतज़ार की घड़ी में पेंडुलम की भाँति लटकते तो न रहते। 

पाटिल दंपति ओटावा में 25-30 वर्षों से हैं। पर कनेडियन छाप एकदम नहीं लगी है। अनिता पाटिल पटना की रहने वाली हैं और शिक्षा–दीक्षा भी पटना में ही हुई। हमारी बहू भी पटना मेँ रह चुकी है। तभी दोनों बिहारी बोल रहे थे तो कभी हिन्दी मेँ बोलते। मज़े की बात कि मि. पाटिल भी इटावा (यू.पी.) के रहने वाले निकल आए। वे उसी मोहल्ले में रहते थे जहाँ भार्गव जी का ठौर-ठिकाना था। फिर तो बातों का बाज़ार ऐसा गरम हुआ कि आश्चर्य ही होता था। सच दुनिया बहुत छोटी हो गई है। कब कौन कहाँ मिल जाए पता नहीं! सद्व्यवहार से हर जगह एक प्यारी-न्यारी छोटी सी दुनिया बस सकती है। 

अनिता और रमेश दोनों ही मिलनसार शाकाहारी व हिन्दी प्रेमी हैं पर इनके इकलौते शाहज़ादे एकदम विपरीत। मांसाहारी, हिन्दी के नाम नाक-भौं सिकोड़ने वाले अँग्रेज़ी मेँ गिटपिट करते हुए अंग्रेज़ों की दम। स्वभाव में इतनी भिन्नता! समझ न सकी ग़लती कहाँ हुई है पर ग़लती हुई तो है। दूसरी भाषाएँ बोलना और सीखना तो सहृदयता की निशानी है पर मातृ भाषा को नकारते हुए उसका अपमान करना अपनी जड़ों पर कुल्हाड़ी मारने के समान है।

वैसे ग़लती तो माँ-बाप की ही मानी जाएगी। दादी-बाबा बनने पर उन्हें अपनी भूल का एहसास ज़रूर होगा जब नाती-पोते पूरे परिवेश को ही बादल कर रख देंगे। रीति-रिवाज, विचार व संस्कारों की भूल-भुलैया में ये दादी-बाबा शतरंज के पिटे मोहरे बनकर रह जाएँगे।

मुझे बार बार अपनी सहेली डॉ. कुलकर्णी के शब्द याद आ रहे हैं जो कनाडा बस गई है – "सुधा पहले तो हम इंगलिश बोलने में गर्व का अनुभव करते रहे। जब अपनी ग़लती का अहसास हुआ तो बहुत देर हो चुकी थी। हम तो अपनी पहचान ही खो बैठे हैं। न कनेडियन रहे और न भारतीय।" 

सच पूछो तो मैं अपनी पोती को लेकर चिंतित हो उठी हूँ। अगर वह भी अँग्रेज़ी मेँ गिटगिट गिटर-गिटर करने लगी मेरा क्या होगा! मैं तो अपनों के बीच में ही पराई हो जाऊँगी। जो दिल और मन का तालमतेल अपनी भाषा में बैठता है वह पराई भाषा में कहाँ! पर ऐसा होगा नहीं। उसकी मम्मी घर में हिन्दी ही बोलती है और उसकी हिन्दी तो उसके पापा से भी अच्छी है। मम्मी जब इतनी सजग है तो वह अपनी दादी माँ से हिन्दी में ज़रूर बोलेगी। मेरे पास आएगी, मेरे साथ बतियायेगी। मैं वारी जाऊँ। फिर तो उसे मैं अपने एक-दो काम भी गिना दूँगी। कभी मेरा चश्मा दूँढ़ कर लाएगी तो कभी मेरी छड़ी। और मैं... मैं फूल सी खिली सौ बरस जीऊँगी। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

01 - कनाडा सफ़र के अजब अनूठे रंग
|

8 अप्रैल 2003 उसके साथ बिताए पलों को मैंने…

02 - ओ.के. (o.k) की मार
|

10 अप्रैल 2003 अगले दिन सुबह बड़ी रुपहली…

03 - ऊँची दुकान फीका पकवान
|

10 अप्रैल 2003 हीथ्रो एयरपोर्ट पर जैसे ही…

04 - कनाडा एयरपोर्ट
|

10 अप्रैल 2003 कनाडा एयरपोर्ट पर बहू-बेटे…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

डायरी

लोक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं