अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

गधे का दुख

गधा गधी से बोला ढेंचू ढेंचू,
थक गया बहुत अब और कितना खेंचू,
 
सुबह से चला था उठाके ये बोझ,
न उठाऊँगा और, सोचता था मैं रोज
तंग गलिओं में आते-जाते यूं रात हो गई
पल भर सुस्ताने की बात खो गई
मंज़िल नहीं दिखती, नज़र दूर-दूर तक फेंकू
गधा गधी से बोला ढेंचू ढेंचू
थक गया बहुत अब और कितना खेंचू.
 
मोर्त्गेजे है या "मौत का गेट"?
या है ये ताड़का?
कितना भी डालो भरे नही पेट
हीट और बिजली के बिल हैं बडे-बडे
ऐसा यज्ञ, जिसमें स्वाहा होते नोट हरे-हरे
 
गधी गधे से बोली, "सुन मेरे प्यारे!
न छोड़ो यूँ हिम्मत, रहो यूँ न हारे- हारे,
भूल जा कभी तू राजा था मैं रानी थी,
जो बीत गया वो कहानी थी
मिलकर खींचेंगे गाड़ी
हिम्मत रख, आएगी अपनी भी बारी,
मिलेगी हमें भी सोने की रोटी,
तू खाए मैं सेंकू,
गधा गधी से बोला ढेंचू ढेंचू
थक गया बहुत अब और कितना खेंचू,
 
गधे ने रखा सिर पर हाथ, कहा-
अगर घोड़ा होता तो अच्छा होता,
मालिक को लेकर सरपट-सरपट दौड़ता,
रेशमी पूंछ लहराता,
सिंह होता, फिर तो क्या बात होती,
मस्तानी चाल, ऊंची दहाड़,
जंगल में अपनी धाक होती
मेरी धेंचू धेंचू से तो भली चूहे की चूँ - चूँ!!

देख गधे का दुख, मन भर आया गधी का
थपकी उसकी पीठ, गले को सहलाया
अरे गधे! तू क्यों विचलित, लाचार है?
अरे, तू तो कर्मण्यता का अवतार है!
समय की धुरी में तेरी ही शक्ति है,
तेरी तरह उसमें भी पुनरावृत्ति की
अभिव्यक्ति है,
बावरे! यहाँ सिंह बन कर किसका
हुआ गुजारा है,
जो गधे रहे वही सुखी रहे,
बाकी जग तो दुखियारा है,
इसलिए न कर सन्ताप,
चल मैं भी तेरे साथ रेंकू
गधा गधी से बोला ढेंचू ढेंचू,
थक गया बहुत, अब और कितना खेंचू.

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं