अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जुगनू

दो-तीन दिन की बारिश के बाद पेड़ों में मानो नई जान सी आ गयी थी, पत्तियाँ हरी-भरी हो गयी थीं। ये इसीलिए भी हुआ था कि पेड़ों के पास में जो कंस्ट्रक्शन का काम चल रहा था उससे निकली धूल को बारिश की बूँदों ने एक-एक कर के पत्तों से हटा दिया था जैसे माँ की डाँट के बाद उसकी एक मुस्कुराहट बच्चे के मन की सारी मैल हर लेती है।

कितना सुहाना मौसम था! शाम वाली धूप भी होती है नाम मात्र की, आसमान में बादल अब भी दस्तक दे रहे थे। ऐसे में किसी का भी दिल आशिक़-सा हो जाये, गुनगुनाये, बलखाये। पर तभी स्ट्रेचर के चक्कों की उबड़-खाबड़ सड़क के साथ जंग ने ध्यान खींच लिया। 

स्ट्रेचर पर सफ़ेद कपड़े से ढकी थी लाश। और दो वार्ड बॉयज़ के अलावा एक प्रौढ़ महिला और एक जवान लड़का। महिला को सहारा देते हुए ला रहा था लड़का। आसूँ उसकी आँखों में भी थे पर बह ज़्यादा महिला के आँखों से रहे थे। एक नदी पर बने बाँध के टूट जाने के बाद जो जल के बहने की आवाज़ होती है कुछ वैसी ही उस महिला के मुँह से निकल रही थी। 

लाश पोस्टमार्टम सेंटर के बाहर पेड़ के नीचे परीक्षण का इंतज़ार कर रही थी। नीले फूल हवा के झोंके से नीचे गिर रहे थे एक-एक, टप टप . . . । उजली चादर पर ये नीले फूल और भी नीले लग रहे थे। धीरे-धीरे सफ़ेदी घटती जा रही थी और नीलापन बढ़ता जा रहा था। मानो ये फूल विदाई दे रहे हों मृत शरीर को श्रद्धा सुमन बनकर।

अब जब पोस्टमार्टम रूम में लाश को ले जाना था तो वार्ड बॉयज़ ने सारे फूल वहीं गिरा दिए नीचे। और लाश पर ढकी चादर फिर सफ़ेदी से भर गई। ये मानो ज़िंदगी को दिखा रही हो कि आज यदि कुछ नहीं तो आगे सब कुछ आएगा, अभी मायूसी है तो कभी बहारें आयेंगी। 

महिला और ज़ोर से रोने लग गयी थी। उसके और परिजन भी आ गए थे। सब कह रहे थे, नियति के आगे किसकी चली है। महिला लड़के से लिपट कर रो रही थी और तब तक रोती रही जब तक कि लाश परीक्षण के बाद वापस न आ गयी। 

अब मृत शरीर को फिर से बाहर लाकर स्ट्रेचर पर रखा गया। अब लाश को कैसे ले जाना है यह तय करना था। तब एक परिजन ऑटो के साथ आये। ऑटो पर लाश जाए, तो जाए कैसे? यह तय हुआ कि धान के पुआल को रखकर लाश को पैर रखने की जगह पर लिटा दिया जाए। फिर महिला और लड़का उस बीच वाली सीट पर बैठ गए और लाश उनके पाँव के नीचे।

गोधूलि की बेला हो चली थी। ऑटो स्टार्ट हुआ और इधर उसकी आवाज़ में महिला की सिसकियों की आवाज़ दब रही थी। स्ट्रेचर को जब वार्ड बॉय ले जा रहे थे। उनके पैर मुरझाये नीले फूलों पर पड़ रहे थे। और फिर उनसे जुगनू निकलने लगे जो कब से छिपे बैठे थे कि कब शाम हो और वो उड़ें। 

उधर किरोसिन मिक्स डीज़ल पर चल रहे ऑटो से काला धुआँ निकल रहा था तो इधर जुगनुओं से थोड़ा-थोड़ा उजाला हो रहा था। लड़के ने पीछे मुड़कर देखा उसे लगा उसके पिताजी जुगनू बन आकाश में जा रहे थे। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

......गिलहरी
|

सारे बच्चों से आगे न दौड़ो तो आँखों के सामने…

...और सत्संग चलता रहा
|

"संत सतगुरु इस धरती पर भगवान हैं। वे…

 जिज्ञासा
|

सुबह-सुबह अख़बार खोलते ही निधन वाले कालम…

 बेशर्म
|

थियेटर से बाहर निकलते ही, पूर्णिमा की नज़र…

टिप्पणियाँ

पाण्डेय सरिता 2021/07/15 09:37 PM

बेहद संवेदनशील

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

बाल साहित्य कहानी

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं