अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हरि प्रकाश राठी

शिक्षा: एमकॉम, सीए,आई.आई.बी
सम्प्रति: स्वैच्छिक सेवा निवृति वर्ष 2001 (यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया)
जन्मतिथि: सितम्बर 1955
साहित्यिक उपलब्धियाँ: 
कथा-संग्रह:
01. अगोचर, 02. साँप-सीढ़ी, 03. आधार, 04. पीढ़ियाँ, 05. पहली बरसात, 06. माटी के दिये, 07. नेति-नेति, 08. कायनात, 09. प्रतिनिधि कहानियाँ 10 एवं 11, हरिप्रकाश राठी की कहानियाँ भाग-1 एवं भाग-2, 12. कहानी-संग्रह ’उसकी बीवी एवं अन्य कहानियाँ’ 
निबन्ध-संग्रह: 
1. समय, सत्य और संवेदना,  2. अब तो सच कहो, 3. किसके रोके रुका है सवेरा    

कतिपय कहानियों का अंग्रेज़ी अनुवाद ’आन द विंग्स ऑफ कुरजां’ भी वर्ष 2015 में प्रकाशित हुई है।
- राजस्थान साहित्य अकादमी द्वारा प्रकाशित राजस्थान के विशिष्ट कथाकारों का रचना संग्रह ’कहानी दर कहानी’ में ‘कच्ची धूप’ कहानी प्रकाशित है।
- अब तक क़रीब 140 से ऊपर कहानियाँ लिखी है। शताधिक कहानियाँ राष्ट्रीय स्तर के समाचार पत्रों/पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं। राजस्थान साहित्य अकादमी की मासिक पत्रिका ’मधुमति’ में भी अब तक 15 कहानियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं। 
- राष्ट्रीय स्तर के विभिन्न अखबारों में सामयिक, राजनैतिक एवं अन्य विषयों पर 500 से अधिक लेख सम्पादकीय पृष्ठ पर छप चुके हैं।

सामाजिक गतिविधियाँ: ‘कम्यूनिटी वेलफ़ेयर एवं क्रिएटीविटी ट्रस्ट’ के मार्फ़त परिवार परिवेदना प्रकोष्ठ बनाकर पारिवारिक परिवेदनाओं का निराकरण करना। अब तक प्राप्त सैकड़ों दाम्पत्य एवं अन्य पारिवारिक परिवेदनाओं का सफल निस्तारण किया है। अनेक साहित्यिक, सामाजिक विषयों पर जगह-जगह उद्बोधन हुए हैं। रोटेरी क्लब के तहत भी पोलियो निवारण एवं अन्य अनेक लोकोपकारी गतिविधियों में समय-समय पर सहभागिता दी है। ज्योतिष की सकारात्मक भूमिका पर भी अनेक आलेख लिखे हैं तथा इस विषय पर विश्वविद्यालयों में भी उद्बोधन दिये हैं। आकाशवाणी पर भी कई कहानियाँ प्रसारित हुई हैं। 

सम्मान: 
अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर–

राष्ट्रीय स्तर पर–

राज्य स्तर पर–

लेखक की कृतियाँ

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं