अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

इला प्रसाद

जन्म : झारखंड की राजधानी राँची में।
शिक्षा : राँची विश्वविद्यालय से भौतिकी में स्नातकोत्तर के बाद काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से भौतिकी में पी.एच. डी. एवं भारतीय प्रौद्यौगिकी संस्थान, मुम्बई में सी. एस.आइ आर. की शोधवृत्ति पर शोध परियोजना के अन्तर्गत कुछ वर्षों तक शोध कार्य। 
राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिक शोध पत्रिकाओं में शोध पत्र प्रकाशित। 
छात्र जीवन में काव्य लेखन की शुरूआत। प्रारंभ में कॉलेज पत्रिका एवं आकाशवाणी तक सीमित।
सम्प्रति : टॉमबॉल कॉलेज, ह्यूस्टन, यू एस ए में भौतिकी एवं गणित का प्राध्यापन।
रचना कर्म : साहित्य से जुड़ाव और अपने को अभिव्यक्त कर पाने की क्षमता उस वातावरण की देन है जो मेरे घर में सहज सुलभ था। यही वह है कि वैज्ञानिक शोध कार्य के दिनों में भी लेखन क्षमता पल्लवित होती रही। पहली रचना "इस कहानी का अंत नहीं" जनसत्ता, भारत में सन 2002 में प्रकाशित हुई। उसी वर्ष अमेरिका आने के बाद यह सिलसिला विश्व हिन्दी न्यास की पत्रिका हिन्दी जगत के माध्यम से बना रहा। तब से लगभग सभी प्रमुख वेब पत्रिकाओं में कवितायें, कहानियाँ प्रकाशित। इला नरेन के नाम से भी लेखन। 
नार्वे से प्रकाशित द्विभाषी पत्रिका "स्पाईल" (दर्पण) एवं लन्दन से प्रकाशित "पुरवाई" में कहानी "ई मेल" का पुन: प्रकाशन। कहानी "रोड टेस्ट " का तेलुगु लेखक एवं पत्रकार शंकर नाग द्वारा तेलुगु में अनुवाद। “तलाश" कविता वेब-पत्रिका अनुभूति एवं भारत से प्रकाशित पत्रिका “कथाक्रम" में प्रकाशित। एक काव्य संग्रह "धूप का टुकड़ा" प्रकाशनाधीन। अपने अधूरे, अनाम उपन्यास पर पिछले वर्ष से कार्यरत।
रुचि : लेखन के अतिरिक्त योग, रेकी, बागवानी, फाटोग्राफी एवं पुस्तकें पढ़ने में रुचि।

 

लेखक की कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा

कविता

पुस्तक चर्चा

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं