अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डॉ. तृप्ति कापड़ी

हिंदी अध्यापिका
लर्निंग पाथ्स स्कूल , मोहाली (पंजाब) 

मेरा नाम डॉ. तृप्ति कापड़ी है। मैं एक स्कूल में हिंदी की अध्यापिका हूँ। मैंने मनोविज्ञान विषय में पी.एच.ड़ी की उपाधि प्राप्त की है तथा हिंदी साहित्य में रुचि होने के कारण हिंदी विषय में भी स्नातकोत्तर किया है। अपनी भाषा के प्रति लगाव मुझे बचपन से ही रहा है शायद इसलिए मनोविज्ञान विषय में पी.एच.ड़ी होने के बावजूद भी मैंने अध्यापन के लिए हिंदी विषय को चुना। मुझे स्कूली बच्चों को पढ़ाना तथा उन्हें अपनी राजभाषा से जोड़ना बहुत अच्छा लगता है। यूँ तो हम सब जानते ही हैं कि अंग्रेज़ी के बढ़ते चलन के कारण आजकल हिंदी भाषा को उतना महत्त्व नहीं दिया जाता परंतु मेरा यह मानना है कि अपने बच्चों में अपनी भाषा के प्रति आदर भाव को जगाना हमारी ज़िम्मेदारी है।

लेखक की कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं