अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

भ्रष्टाचार

मिला निमंत्रण
एक संस्था से
आकर सभा को 
सम्बोधित कीजिए 
अपनी सरल व सुलझी 
भाषा में 
“भ्रष्टाचार” जैसी बुराई 
पर कुछ बोलिए


ऐसे सम्मान का था 
ये प्रथम अवसर 
गौरव के उल्लास में 
हमने भी हामी भर दी 
समस्या की गहनता को 
बिना जाने समझे 
हमने इक नादानी कर दी। 


वाह, वाही की चाह में 
हमने सोचा 
चलो भाषण की 
रूप रेखा रच लें
अख़बारों व पत्रिकाओं में 
इस विषय में 
जो कुछ छपा हो 
सब रट लें।


जितना पढ़ते गए 
विषय से हटते चले गए 
जो एक आध 
मौलिक विचार थे भी 
वो मिटते चले गए 
लगने लगा हमें 
कि ये हमने क्या कर दिया 
अभिमन्यु तो भाग्य से फँसा था 
हमने चक्रव्यूह ख़ुद रच लिया 


देखते ही देखते 
आ पहुँचा वो दिन 
किसी अग्नि परीक्षा से 
जो नहीं था अब भिन्न 
तालियों की गड़गड़ाहट से 
हुआ हमारा अभिनंदन 
घबराहट में धैर्य के 
टूटे सभी बंधन। 

ना जाने कैसे 
रटा हुआ 
सब भूल गए 
कहना कुछ था 
और कुछ कह गए 
मन के किसी कोने में 
छिपे उद्‌गार बोल उठे 
ख़ुद को मासूम 
व सम्पूर्ण समाज को 
भ्रष्ट बोल गए।


उस दोषारोपण ने 
सभा का बदल दिया रंग 
उभर आई भीड़, 
धीरे-धीरे होने लगी कम 
देखते ही देखते 
वहाँ रह गए बस हम 
और इस 
तरह दुखद हुआ
एस महासभा का अंत।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं