अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हमारी प्यारी मातृभूमि

(आयु: 13 साल)

क‌‌ई लोग जन्मे तुझपर,
क‌ई लोग मरे तुझपर।
परंतु तू न रुकी,
तू न थकी,
हमारा बोझ सहती रही।
 
तेरी मिट्टी जैसे फूल,
इसे मुश्किल है जाना भूल।
तेरा‌ पानी‌‌ जैसे अमृत,
जिसे पीना‌ चाहे हर को‌ई 
चाहे हो जीवित या मृत।
तेरे फल जैसे हर रोग की दवा‌ई,
जिन्हें खाए और स्वस्थ हो जाए।
 
तुझपर ही हैं जन्मे,
तुझपर ही है सुख-चैन पाया,
तूने अपना पानी पिलाया,
तूने अपना खाना खिलाया।
 
जब अँग्रेज़ों ने किया तुझपर क़ब्ज़ा,
तब भी तू न चिल्लायी,
न घबरायी,
दर्द सहती रही,
और फिर अँग्रेज़ों को मोड़ा।
 
पहले तू थी सोने की चिड़िया,
तेरा हर समान था बढ़िया।
आशा है तू रहेगी कुशल,
तुझे देखने के लिए दिल जाता है मचल।
 
तूने हर किसी को अपनाया,
चाहे हो अपना या पराया,
हर किसी को तूने अपना बनाया,
हर जगह तूने मौजूद रखी अपनी धूप और छाया,
बनकर रही हमारा साया।
 
यह तो थी पैसों की मोह माया,
कि क‌ई लोगों ने तुझे ठुकराया।
वह लोग चाहते थे विदेश में जाना बस,
परंतु हो ग‌ए बेबस।
 
तेरी नदियों को किया दूषित,
तुझे किया प्रदूषित।
हमें कर तू माफ़,
अब रखेंगे तुझे साफ़।
हे मातृभूमि, तू है महान,
तू है महान।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आज के हम बच्चे
|

हम नन्हे-मुन्हे तारे, आओ टिमटिमाएँ सारे।…

ऐसा जीवन आया था
|

घूमते हो जो तुम इन  रंग बिरंगे बाज़ारों…

ऐसा देश है मेरा
|

चाणक्य के तक़दीर में था राजयोग फिर भी माँ…

करो सलाम
|

उस सैनिक को  करो सलाम  जिससे देश…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं