अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

इमली

"भैया! पैसे दो ना!" वैभव ने कहा 

सौरभ ने कहा, "नहीं, फिर तू जाकर इमली खाएगा।"

"नहीं भैया पाचक खाऊँगा या चॉकलेट," वैभव ने उत्तर दिया।

सौरभ ने वैभव को दो रुपए दिये। सौरभ अभी पहली कक्षा में था तो वैभव के.जी. में पढ़ रहा था। कुछ दिन पहले ही उनकी मम्मी ने आकर गुमटी लगाकर बिस्कुट, चॉकलेट बेचने वाले लड़के को समझाया था कि वह वैभव को इमली ना खाने दे। पर वैभव से इमली खाये बिना रहा नहीं जाता था।

वैभव था शरारती और चालाक भी। उसने अपने एक सहपाठी को एक रुपए दिया और इमली लाने को कहा। एक रुपये में सोलह इमलियाँ मिलती थीं। स्कूल में कक्षाओं के दौरान उसने आठ इमलियाँ खा लीं। 

अहा! कितना आनंद आता है। अब छुट्टी का वक़्त हो रहा था। वैभव और सौरभ पैदल घर की ओर निकले। शरारती वैभव ने कुत्ते के बच्चे को बोतल दे मारी। कुत्ते का बच्चा भड़क गया और उसपर भौंक कर दौड़ने लगा। तभी वैभव ने दो इमालियाँ एक साथ खा ली और इमली जा फँसी वैभव के कंठ में। वैभव दर्द से कराह उठा तब सौरभ का ध्यान उसकी तरफ़ आया। वह समझ चुका था कि माजरा क्या है। उसने उसे खाँस कर इमली बाहर निकलने को कहा पर इमलियाँ बाहर निकलती ही नहीं थी।

अब क्या किया जाए. . . सौरभ यह सोच ही रहा था कि एक बड़ी कक्षा का छात्र साइकिल से उनके पास से गुज़रा। सौरभ ने उससे मदद माँगी। उस छात्र ने वैभव को पीछे से पकड़ा और छाती पर ज़ोर लगाते हुए धक्का दिया। इसके बाद इमलियाँ उसके मुँह से निकल कर बाहर सड़क पर गिर गईं। 

अब वैभव के जान में जान आई और सौरभ के भी। सौरभ ने गौरव को डाँटा। गौरव ने रुआँसा होकर जेब मे पड़ी इमली को ज़मीन पर फेंक दिया। सौरभ ने उसे समझाते हुए घर पर मम्मी से इस बात का ज़िक्र करने से मना किया।

 अब जब सौरभ और वैभव घर पहुँचे थे माँ ने दरवाज़ा खोला पर दोनों ने माँ से कुछ नहीं कहा। माँ ने वैवभ को देखकर कहा, "आज तुम्हारे पसंद की इमली की चटनी बनाई है।"

सौरभ और वैभव एक दूसरे को देख कर मुस्कुराने लगे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आसमानी आफ़त
|

 बंटी बंदर ने घबराएं हुए बंदरों से…

आख़िरी सलाम
|

 अखिल भारतीय कहानी प्रतियोगिता में…

ईमानदारी का फल
|

 चन्दनपुर गाँव में एक किसान रहता था।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

बाल साहित्य कहानी

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं