अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जब से उम्र ढली है मेरी

(वृद्धावस्था की व्यथा पर मेरा एक गीत)

झूल रहे क़ब्ज़ों पर आधे
आधे घिसट रहे अपने बल
सहमे उम्र ढले दरवाज़े
मुठ्ठी भर लाएगा क्या? कल
 
जिन रिश्तों से कसे हुए थे
कीलों से जो धँसे हुए थे
मज़बूती से  अंदर-अंदर
ख़ुद से ही पकड़े-जकड़े थे
 
जब से उम्र ढली क्या मेरी
नातों की ढीली है सांकल
 
हर मौसम को आते जाते
सहा सर्द, गर्मी, बरसातें
आँगन से डयोढ़ी की दूरी
घर में सबको रहा बताते
 
जब से उम्र ढली क्या मेरी
खिसक रहा पैरों का है थल
 
संवेदन की वंदनमाला
भावों की बिखरी रंगोली
कोमल पैर धरे सीने पर
अब जूतों की ठोकर झेली
 
जब से उम्र ढली क्या मेरी
सूख गया आँखों का है जल
 
जीवन के झंझावातों में
सुख-दुख संघर्षों के मेले
परछाईं ने लुकाछिपी के
अक़्सर, खेल अनोखे खेले
 
जब से उम्र ढली क्या मेरी
तब से वक़्त रहा मुझको छल

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अबके बरस मैं कैसे आऊँ
|

(रक्षाबंधन पर गीत)   अबके बरस मैं कैसे…

अम्बर के धन चाँद सितारे 
|

अम्बर के धन चाँद सितारे   प्रथम किरण…

अवध में राम आए हैं
|

हर्षित है सारा ही संसार अवध  में  …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं