अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मेरे बच्चो, दीवाली का पहला दीप वहाँ धर आना...

जिस घर से कोई निकला हो अपने सिर पर कफ़न बाँधकर,
सुख-सुविधा, घर-द्वार छोड़ कर मातृभूमि के आवाहन पर।
बच्चों, उसके घर जा कर तुम उन सबकी भी सुध ले लेना
खील-बताशे लाने वाला कोई है क्या उनके भी घर?
अपने साथ उन्हें भी थोड़ी, इस दिन तो ख़ुशियाँ दे आना।


छाँह पिता की छिनी सिरों से जिनकी, सिर्फ़ हमारे कारण
हम सब रहें सुरक्षित, जो बलिदान कर गए अपना जीवन
बूढ़े माता-पिता विवश से, आदर सहित चरण छू लेना,
अपने साथ हँसाना, भर देना उनके मन का सूनापन,
आदर-मान और अपनापन दे कर उनका आशीष पाना!


दीवाली की धूम-धाम से अलग न वे रह जायें अकेले,
तुम सुख-शान्ति पा सको, इसीलिए तो उनने यह दुख झेले।
उन सबका जीवन खो बैठा धूम-धाम फुलझड़ी पटाखे,
रह न जायें वे अलग-थलग जब लगें पर्व-तिथियों के मेले।
उनकी जगह अगर तुम होते, यही सोच सद्भाव दिखाना।


हम निचिंत हो पनप सके वे मातृभूमि की खाद बन गये,
रक्त-धार से सींची माटी, सीने पर ले घाव सो गए।
वह उदास नारी, जिसके माथे का सूरज अस्त हो गया,
तुम क्या दे पाओगे ,जिसके आगत सभी विहान खो गए!
उसने तो दे दिया सभी कुछ, अब तुम उसकी आन निभाना.


अपने जैसा ही समझो, उन का मुरझाया जो बेबस मन,
देखो ,बिना दुलार -प्यार के बीत न जाए कोई बचपन।
न्यायोचित व्यवहार यही है- उनका हिस्सा मिले उन्हें ही,
वे जीवन्त प्रमाण रख गए, साधी कठिन काल की थ्योरम
अपनी ही सामर्थ्यों से, बच्चों तुम 'इतिसिद्धम्' लिख जाना!

(थ्योरम = Theorem.,प्रमेय)

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

ऐसा देश है मेरा
|

चाणक्य के तक़दीर में था राजयोग फिर भी माँ…

कहाँ गए
|

पता नहीं वे मित्र हमारे, कहाँ गए सारे के…

छन्न पकैया
|

छन्न पकैया छन्न पकैया, माँझी नाव चलाये।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

ललित निबन्ध

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

साहित्यिक आलेख

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं