अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डॉ. अर्चना गुप्ता

डॉ. अर्चना गुप्ता एमिटी यूनिवर्सिटी, लखनऊ के अँग्रेज़ी विभाग में एक असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के पद पर कार्यरत हैं। उन्होंने अपनी एम.ए. और एम.फिल. की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की। डॉ. गुप्ता ने यूजीसी नेट और जे आर एफ़ की परीक्षा २००८ में उत्तीर्ण की। २०१७ में उन्होंने Refashioning Selfhood: A Study of Select South -Asian Women Writers' Autobiographies टॉपिक पर अपनी पीएच.डी. पूरी की। 

डॉ. अर्चना गुप्ता ने विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर की गोष्ठियों में अपने शोध पत्र प्रस्तुत किये हैं। अँग्रेज़ी की एक उत्कृष्ट शिक्षिका होने के साथ-साथ वह एक उत्तम लेखक भी हैं। उनकी हिंदी में लिखी कई कवितायें प्रकाशित हो चुकी हैं और कुछ पर वह अभी भी काम कर रही हैं। उनके अंदर का लेखक उनको बार-बार समकालीन घटनाओं पर लिखने को प्रेरित करता रहता है।
 

लेखक की कृतियाँ

सामाजिक आलेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं