अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दिलीप सिंह शेखावत

हिंदी लेखन में अपना भविष्य ढूँढ़ते युवा लेखक दिलीप सिंह का जन्म राजस्थान, भारत में हुआ जबकि शिक्षा इत्यादि गुजरात के अहमदाबाद शहर में हुई। उच्च माध्यमिक तक की शिक्षा हिंदी माध्यम में करने के पश्चात् सौराष्ट्र यूनिवर्सिटी से होटल मैनेजमेंट में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। ज़्यादातर कार्य अँग्रेज़ी में होने के पश्चात् भी वे हिंदी से जुड़े रहे और अपने भावों को धीरे-धीरे कविता के माध्यम से व्यक्त करने लगे। और इस तरह लेखनी में उनकी रुचि बढ़ती गयी।

मानव एवं प्रकृति के वर्तमान तथा भविष्य की परिस्थितियों पर वे लिखना पसंद करते हैं। भारतीय संस्कृति पर विश्वास रखते हुवे वे मानते हैं कि इसका ठीक से अध्ययन नहीं किया गया जो कि अति आवश्यक था यह मानव के भविष्य को सही दिशा निर्देश प्रदान कर सकती है।

लेखक की कृतियाँ

कविता

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं