अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

राजकुमार जैन राजन की नेपाली में अनूदित पुस्तकों का लोकार्पण उज्जैन में

उज्जैन- आकोला (राजस्थान) के सुपरिचित साहित्यकार, संपादक, प्रकाशक, समाजसेवी श्री राजकुमार जैन राजन की बाल-साहित्य कृतियों के नेपाल से प्रकाशित नेपाली अनूदित संस्करण का लोकार्पण उज्जैन में हुआ। उज्जैन की कालिदास अकादमी परिसर में 'शब्द प्रवाह सृजन मंच' उज्जैन व 'राष्ट्रीय पुस्तक न्यास', नई दिल्ली के भव्य आयोजन में राजन के बाल कहानी संग्रह 'मन के जीते जीत' एवम बाल कविता संग्रह 'रोबोट एक दिला दो राम' के नेपाली संस्करण 'मनले जिते जित' एवम 'एउटा रोबट दिलाइदेऊ राम' का लोकार्पण सम्पन्न हुआ। 

मंचस्थ अतिथि राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के संपादक डॉ. लालित्य ललित, विक्रम विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति, मध्य प्रदेश हिंदी ग्रन्थ अकादमी के निदेशक व प्रसिद्ध साहित्यकार, चिंतक डॉ. राम राजेश मिश्र, कुलानुशासक हिंदी विभागाध्यक्ष विक्रम विश्वविद्यालय एवम प्रसिद्ध साहित्यकार डॉ. शैलेन्द्र कुमार शर्मा, सुप्रसिद्ध संपादक, साहित्यकार श्री संदीप सृजन, डॉ. राजेश रावल, श्री राजेश राज आदि के करकमलों द्वारा इन कृतियों का लोकार्पण सम्पादित हुआ। इस आयोजन में सर्व श्री गोविंद शर्मा (संगरिया), डॉ. जयप्रकाश पंड्या ज्योतिपुंज (उदयपुर), जयसिंग आशावत (नैनवा), डॉ. गरिमा दुबे (इंदौर), डॉ. महेंद्र अग्रवाल (शिवपुरी), श्री अशोक व्यास (भोपाल), श्रीमती शशि सक्सैना (जयपुर), श्री प्रदीप नवीन (इंदौर) सहित देश के कई ख्यातनाम साहित्यकार उपस्थित रहे।

ज्ञातव्य है कि राजकुमार जैन राजन बाल-साहित्य के उन्नयन एवम संवर्द्धन के लिए प्रतिबद्ध व बाल-साहित्य सर्जक के रूप में बाल-साहित्य जगत में सुपरिचित नाम है। इनकी अब तक 36 बाल सहित्य कृतियाँ प्रकाशित हो चुकी है। देश-विदेश में कई भाषाओं में इनकी कृतियों का अनुवाद हुआ है।

बाल कहानी संग्रह 'मन के जीते जीत' में सकारात्मक सोच प्रदान करने वाली 30 कहानियाँ प्रकाशित है। इस कहानी संग्रह का नेपाली अनूदित संस्करण 'मनले जिते जित' नाम से 'शब्द संयोजन प्रकाशन' काठमांडू , नेपाल से, नेपाल सरकार के आईएसबीएन नम्बर के साथ प्रकाशित हुआ है जिसका नेपाली भाषा मे अनुवाद नेपाली/हिंदी की प्रसिद्ध साहित्यकार सुमि लोहनी ने किया है।

बाल कविता संग्रह 'रोबोट एक दिला दो राम' में राजकुमार जैन राजन की 47 कविताएँ संगृहीत हैं जिसमें बच्चों को प्रकृति प्रेम, पर्यावरण संरक्षण की सीख देते हुये प्रकृति के विविध आयामों को सुंदर तरीक़े से प्रस्तुत करते हुए आधुनिक वैज्ञानिक युग से जोड़ने वाली कवितायें संगृहीत हैं। इस बाल कविता संग्रह का नेपाली भाषा मे अनूदित संस्करण 'एउटा रोबट दिलाईदेऊ राम' शीर्षक से दीपश्री क्रिएटिव मीडिया पब्लिसिंग हाउस, काठमांडू नेपाल से, नेपाल के आईएसबीएन के साथ प्रकाशित हुआ है। इस बाल कविता संग्रह का अनुवाद भी नेपाल की ख्यातनाम लेखिका , शिक्षाविद सुमि लोहनी ने किया है। 

भारतीय रचनाकार की नेपाल से प्रकाशित ये कृतियाँ भारत -नेपाल मैत्री व सांस्कृतिक संम्बंधों को सुदृढ़ करने का काम करेगी।

इससे पूर्व राजकुमार जैन राजन के कविता संग्रह 'खोजना होगा अमृत कलश' का भी नेपाली में अनूदित संस्करण प्रकाशित हो चुका है जिसका लोकार्पण नेपाल, प्रदेश 2 के मुख्यमंत्री द्वारा किया गया है।

●समाचार: पारुल व्यास

हाल ही में

अन्य समाचार