अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

विद्यार्थियों को बाल पत्रिका पढ़ने के लिए किया गया प्रेरित

मिशन इण्टरनेशनल स्कूल के 50 विद्यार्थियों ने ली सदस्यता

अलीगढ़। बाल रचनाकारों की राष्ट्रीय पत्रिका ‘अभिनव बालमन’ द्वारा मिशन इण्टरनेशनल स्कूल में विद्यार्थियों को बाल पत्रिकाओं को पढ़ने एवं रचनात्मक गतिविधियों में प्रतिभाग करने के उद्देश्य को लेकर प्रेरित किया गया और इसी प्रेरणा को लेकर विद्यालय के 50 विद्यार्थियों ने ‘अभिनव बालमन’ की सदस्यता ली।
प्रधानाचार्य शीतल शर्मा ने विद्यार्थियों से कहा कि आपको पाठ्यक्रम तक सीमित न रहकर पत्र-पत्रिकाओं को भी पढ़ना चाहिए जिससे आपके ज्ञान का प्रसार हो। इसके लिए ‘अभिनव बालमन’ का यह प्रयास श्रेयस्कर है।

प्रबंधक आशीष शर्मा ने कहा कि ऐसा नहीं है कि बच्चों पर अन्य पत्रिकाएँ पढ़ने के लिए समय नहीं है बल्कि समस्या यह है कि बच्चे अपना समय पढ़ने के अलावा मोबाइल, टीवी में लगा रहे हैं। जब तक हम उन्हें पत्र-पत्रिकाओं को पढ़ने के लिए प्रेरित नहीं करेंगे तब तक बच्चे को इनके बारे में जानकारी नहीं मिलेगी। अतः हम सभी को ऐसा माहौल बनाना होगा कि बच्चे बाल पत्रिकाओं के प्रति रुचि दिखाएँ।

इस अवसर पर अभिनव बालमन के सम्पादक निश्चल ने कहा कि बाल पत्रिकाएँ बच्चे को उसके मानसिक स्तर के अनुरूप विभिन्न जानकारियों से अवगत तो कराती ही हैं साथ ही उसकी रचनात्मकता को भी निखारती हैं। ‘अभिनव बालमन’ पिछले 10 वर्षों से बच्चों की रचनात्मकता को निखारने, सँवारने का कार्य तो कर ही रही है साथ ही उनको ऐसा मंच भी प्रदान कर रही है जिससे वह आत्मविश्वास के साथ इस कार्य को कर सकें।

कार्यक्रम का संयोजन विद्यालय के शिक्षक हनी सर ने किया।
 

हाल ही में

अन्य समाचार