अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चेन्नई से हिमाद्रि- मेरी शब्द-यात्रा

रचना: चेन्नई से हिमाद्रि तक ‘सड़क से’ 
लेखक: डॉ. पद्मावती
 

मैं न तो देवप्रयाग गया हूँ, न ही कर्णप्रयाग, न ही उखीमठ से तीसरे आयाम की (हेलीकॉप्टर से ) यात्रा की है।

किन्तु जब मैं इसे पढ़ रहा था, तो मैं भी लेखिका के साथ इस आनंदमय यात्रा का सहभागी बना था।

इस संस्मरण की विशेषता यह है कि ये अपने आप में एक कुशल यात्रा वृत्तांत भी है। बल्कि इसे यात्रावृत्तांत ही कहना ज़्यादा प्रासंगिक होगा, क्योंकि इसमें न केवल यात्रा विवरण है, अपितु छोटे-छोटे दृश्यों का ज़िक्र होना ही इसे कुशल बनाता है। इसे पढ़ते हुए मन में दृश्य बनता चला जाता है ऐसा प्रतीत होता है कि यह यात्रा न केवल लेखिका की है बल्कि उतनी ही पाठक की भी। निस्संदेह! लेखिका शब्दों से चित्र बनाने में सक्षम हैं। 

इसकी दूसरी विशेषता यह है कि इसमें न केवल दृश्यों का वर्णन है अपितु भावना का अर्पण भी है, संस्कृति का समावेश भी। साथ ही स्थान के बारे में आवश्यक जानकारी भी।

भावना का अर्पण इसलिए, कि लेखिका उलीच देती हैं स्वयं को, स्वत्व को, अहंकार का चोला उघाड़ कर।

यही समय होता है जब महसूस होती है स्वयं की नगण्यता, और व्यक्ति अर्पित कर देता है स्वयं को उस ब्रह्म में जो सर्वव्यापी है, चिरंतन है। जिसे उपनिषदों ने ‛रसोवैसह’ कहा है।

यही वो पल है जब अनुभूति संभव है ‛तत्वमसि’ की, ‛अहम ब्रह्मास्मि’ की। 

मैं लेखिका की तरह इस यात्रा को लेखिका की तरह साहसिक नहीं कहूँगा। इसका अभिप्राय यह यत्किंचित भी नहीं, कि मैं लेखिका के दृष्टिकोण को असत्य कह रहा हूँ। बल्कि मैं साहसिक इसलिए नहीं कह रहा क्योंकि ‛साहस’ शब्द में कर्त्ता का भाव छुपा है और जहाँ कर्त्ता का भाव है वहाँ उस ‛सच्चिदानंद’ की अनुभूति हो ही नहीं सकती। उसके लिए परमावश्यक है कि स्वयं के कर्त्ता भाव और अहंकार का त्याग किया जाए और लेखिका ने किया भी।

निश्चित ही, यह यात्रावृत्तांत-संस्मरण पठनीय है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

वृत्तांत

रचना समीक्षा

कविता

रेखाचित्र

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं