अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

 काश! हम कुछ सीख पायें

अभी कुछ दिनो पूर्व कोटा से निज़ामुद्दिन जनशताब्दी ट्रेन से यात्रा करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। जिस कोच में हम यात्रा कर रहे थे, हमारे पास एक अंग्रेज़ दंपति भी बैठे थे। कोच में एक बारात भी जा रही थी। बीच यात्रा में 1 घंटे पश्चात शायद उनका चाय-नाश्ते का प्रबंध भी था। जो वो कोटा से ही अरेंज करके लाये थे। सुमेरगंज मंडी आते-आते उनके कुछ सदस्यों ने चाय नाश्ता सर्व करना शुरू कर दिया।

अधिकांश यात्रियों ने नाश्ता बहुत बिगाड़ा। चाय भी कोच में इधर-उधर फैला दी। कुछ समय बाद तो कोच में बदबू आने लगी। हमने उनको सफ़ाई बाबत कहा। उन्होंने कहा कि सफ़ाई वाले आ जायेंगे। बहुत देर बाद सफ़ाईकर्मी आये। वो भी गंदगी देख कर भाग गये । हालाँकि सफ़ाई उनकी ज़िम्मेदारी थी। हमने देखा कि अचानक अंग्रेज़ दंपति उठे। उन्होंने अपने बैग मे से दो बड़ी थैलियाँ निकालीं और दोनों ने धीरे-धीरे गंदगी उठा कर अपनी थैलियों में ठूँस-ठूँस कर भर डाली। सफ़ाई में हमने भी उनका साथ दिया, और उन थैलियों को दरवाज़े के पास रख दिया। फिर वो बीच में आये और अँग्रेज़ी में सबको बोला: "आपके इंडिया मे ही कुछ लोगों को खाने को नही मिलता है, आपने कितना बिगाड़ा है, आप खाने में उतना ही लें जितना आपसे खाया जाये। गंदगी हो जाये तो, ये आपने की है, इसकी सफ़ाई कि ज़िम्मेदारी भी आपकी है। आपने खाया कम और फैलाया ज़्यादा।" उन्होंने आयोजकों को भी लताड़ पिलाई कि आपने स्टेशन पर पार्टी करनी थी, आपने कोच में अरेंज क्यों की?

उन्होंने रेलवे उच्चाधिकारीयों को मोबायल पर ट्वीट भी किया। सवाईमाधोपुर आते ही कुछ रेलवे अधिकारियों के साथ सफाई टीम पूरी तैयारी के साथ खड़ी थी।

काश! हम भारतीय उनसे कुछ सीख पायें।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

28 अक्टूबर, 2015 की वो रात
|

बात २४ जनवरी २०१३ की है। उस दिन मेरा ७५वां…

अभी नहीं 2 - चाय का दूध बहुत महँगा पड़ा : 1961
|

जीवन की कुछ घटनाएँ ऐसी होती हैं जो अपनी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं