अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

क्या पता है…

मूल कवि : उत्तम कांबळे
डॉ. कोल्हारे दत्ता रत्नाकर

क्या पता…
नई सदी का मनुष्य
संगणक के कंधे पर
सिर रख कर
अंतिम साँस ले।
दयालु संगणक
अंतराल में, मनुष्य की कब्र के पास
शोकसभा ले।
शोकप्रस्ताव पारित कर
आत्मीय भाषण भी दे।

"पृथ्वी पर रहने वाली
मनुष्य नाम जाति
कितनी जुझारू थी,
कितनी गूढ़ थी
वह अत्यंत लड़ाकू भी थी
वह धर्म के लिए लड़ी
वह जाति के लिए लड़ी
प्रदेश और पंथ के लिए भी लड़ी
दुःख बस इस बात का है कि
वह मनुष्यता के लिए
कभी नहीं लड़ी।
समस्त संगणक बंधुओं को
अब हमारा नम्र निवेदन
उन्हें
मनुष्य द्वारा प्राप्त बुद्धि का
दयालुवृत्ति से प्रयोग करें।
मनुष्यता के लिए लड़ें
ऐसे मनुष्य को दुबारा
जन्म देने का
प्रमाणिक प्रयत्न करें।
नामशेष होने वाले
मनुष्य प्राणी को
यही सच्ची श्रद्धांजलि।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अजनबी औरत
|

सिंध की लेखिका- अतिया दाऊद  हिंदी अनुवाद…

अनुकरण
|

मूल कवि : उत्तम कांबळे डॉ. कोल्हारे दत्ता…

अपनी बेटी के नाम
|

सिंध की लेखिका- अतिया दाऊद  हिंदी अनुवाद…

अपने मठ की ओर
|

अपने मठ की ओर  (पंजाबी कविता) लेखक…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

अनूदित कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं