अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नया सवेरा

सुनील बीती रात से करवट पर करवट ले रहा था, उसे किसी भी तरह सुबह होने का इंतज़ार था, आँखों से नींद कोसों दूर जा चुकी थी। उसे उम्मीद थी कि कल का सूरज उसके जीवन में नया सवेरा लायेगा क्यूँकि कल सुबह उसका आईआईटी का परिणाम आने वाला था किन्तु क़िस्मत को कुछ और ही मंजूर था।

सुबह होने पर सुनील का मुँह लटक गया था। परिणाम आया और वह क्वालीफ़ाई नहीं कर सका था। बड़े भाई ने उसकी मनोदशा देख कर प्यार से कहा, "तुम परीक्षा में असफल हो गए,  इस बात पर इतना अधिक दुख क्यों?"

"भैया,  मैंने  दिन-रात मेहनत की और आपका कितना पैसा ख़र्च हो गया और ये परिणाम आया?  मैं बहुत शर्मिंदा हूँ भैया," सुबकते हुए सुनील ने कहा। "बचपन में पापा के गुज़रने के बाद आज तक आपने मुझे पापा की कमी महसूस नहीं होने दी और मैंने आज आपको यह परिणाम दिया। मेरा जीवन अब अंधकार से भर गया है, मैं कुछ नहीं कर सकता। मैं किसी काम का नहीं।"

"लेकिन मुझे बिलकुल भी दुख नहीं है। बल्कि मैं  तो ख़ुश हूँ," भैया ने अपने चेहरे पर मुस्कराहट लाते हुए कहा। सुनील को बहुत आश्चर्य हो रहा था। "तुम्हें मालूम है सुनील, आज देश में बेरोज़गार इंजीनियरों की संख्या लाखों में है। मुझे भी अंदर ही अंदर चिंता सताये जा रही थी कि तुम भी उस सूची में शामिल न हो जाओ। मेरी वह चिंता अब ख़त्म हो गई;  इस परीक्षा से तुम्हारा दाख़िला बड़े इंजीनियरिंग कॉलेज में होता। सोचो, कितना ख़र्च कर तुम बेरोज़गार इंजीनियर बनते तो मुझे कितना दुःख होता। दाख़िले के बाद मेरी दिन-रात मेहनत का पैसा लगता और फिर तुम बेरोज़गार होकर नौकरी के लिए यहाँ से वहाँ भटकते रहते।"

भैया, सुनील को बहुत ही प्रेम, स्नेह एवं गंभीरता से समझा रहे थे और सुनील के सामने से जैसे एक-एक कर किताब के सारे पन्ने पलट रहे थे। "अच्छा हुआ जो तुम्हारा उस परीक्षा में दाख़िला नहीं हुआ। तुम्हारे पास अब मौक़ा है कि तुम अपना बिज़नेस करो एवं एक बड़े और अच्छे बिज़नेसमैन बनो।  आज सभी नौजवान बिज़नेस करके ही आगे बढ़ रहे  हैं; अपना एवं औरों का भविष्य सुरक्षित करो। एक नया सवेरा तुम्हारा इंतज़ार कर रहा है। संघर्ष करो और जीत अपनी मुट्ठी में कर लो।"

सुनील को अंधकार में नया सवेरा खिलता दिखा और वह पहले से ज़्यादा मज़बूत लगा।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं