अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

नहीं मिला कहीं भी कुछ अगरचे दर-ब-दर गए

नहीं मिला कहीं भी कुछ अगरचे दर-ब-दर गए 
तो हम भी थक के शाम को पलट के अपने घर गए 
 
पता नहीं चला कि कब गुज़र गई ये ज़िन्दगी 
यह रोज़-ओ-माह-ओ-साल सब कहाँ गए किधर गए 
 
अक़ीदतों की ज़द में आ के ज़हन कितने ही यहाँ 
सहम गए सिमट गए सिकुड़ गए ठिठुर गए 
अक़ीदत = श्रद्धा 
 
क़दम क़दम पे थे तज़ाद और उनके वसवसे 
न थी जो ख़ू-ए-दर-गुज़र सो आगही के सर गए 
तज़ाद   = विरोध;  वसवसे  = झक, सनक;  
ख़ू-ए-दर-गुज़र = क्षमा करने का स्वभाव  

 
है जुज़व-ए-ज़ीस्त ग़ैरीअत समझ में आ गया जिन्हें 
जुनून-ए-शौक़ में भी कब वो वस्ल से उधर गए 
जुज़व-ए-ज़ीस्त = ज़िन्दगी का हिस्सा  
 
थीं मंज़िलें बहुत यहाँ थे रास्ते भी बेशतर 
न दूर तक चले कभी ज़रा चले ठहर गए 
 
ठहर के सोचने की यह सरिश्त भी अजीब थी 
किसे ख़बर कि हम यहाँ पे दूर तक किधर गए 
सरिश्त  = स्वभाव, प्रकृति
 
न कुछ ख़बर थी जब हमें है नारसाई चीज़ क्या 
हमारे भी थे ख़्वाब कुछ न जाने कब वो मर गए 
नारसाई  = पहुँच से बाहर
 
ज़मीर से मुआमले कभी न हम से हो सके 
तभी तो हाल ये हुआ तभी तो यूँ बिखर गए
 
फ़सील-ए-शहर से परे जो रास्ते थे कुछ यहाँ 
कभी न जा सके वहाँ जो जा सके निखर गए
फ़सील-ए-शहर = नगर सीमा

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 कहने लगे बच्चे कि
|

हम सोचते ही रह गये और दिन गुज़र गए। जो भी…

 तू न अमृत का पियाला दे हमें
|

तू न अमृत का पियाला दे हमें सिर्फ़ रोटी का…

 मिलने जुलने का इक बहाना हो
|

 मिलने जुलने का इक बहाना हो बरफ़ पिघले…

 मिज़ाज पूछने आए, मिज़ाज करते हैं
|

मिज़ाज पूछने आए, मिज़ाज करते हैं हसीन कैसे…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

ग़ज़ल

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं