अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पी गये उधार में

जिस किसी ने भी जीवन में कभी इश्क़ में चोट खाई हो या किसी को खाते हुए देखा, पढ़ा या सुना हो, उन सभी को आमंत्रण है। आइये, आइये-महफ़िल सजी है। ग़ज़ल चल रही है, सुनिये। दाद दिजिये, हालात पर थोड़ा दुख जताइये और महफ़िल की शोभा बढ़ाइये। बाक़ी बचे भी आमंत्रित हैं। कुछ अनुभव ही बढ़ेगा। ऐसी द्विव्य बातें और महफ़िलें बार-बार तो होती नहीं।

वैधानिक चेतावनी: थोड़ा मार्मिक टाईप है। आँख से अश्रुधार बह सकती है, रुमाल ले कर बैठें। वरना क्म्प्यूटर के कीबोर्ड में आँसू गिरने से शार्ट सर्किट हो सकता है। :)

तब अर्ज किया है:

सो गया मैं चैन से

 

रात भर दबा के पी, खुल्लम खुल्ला बार में
सारा दिन गुज़ार दिया बस उसी खुमार में

 

ग़म ग़लत हुआ ज़रा तो इश्क़ जागने लगा
रोज़ धोखे खा रहे हैं जबकि हम तो प्यार में।

 

कैश जितना जेब में था, वो तो देकर आ गये
बाक़ी जितनी पी गये, वो लिख गई उधार में।

 

यों चढ़ा नशा कि होश, होश को गँवा गया
और नींद पी गई उसे बची जो जार में।

 

वो दिखे तो साथ में लिये थे अपने भाई को
गुठलियों भी साथ आईं, आम के अचार में।

 

याद की गली से दूर, नींद आये रात भर
सो गया मैं चैन से चादर बिछा मज़ार में।

 

हुआ ज़फ़र के चार दिन की उम्र का हिसाब यूँ
कटा है एक इश्क़ में, कटेंगे तीन बार में।

 

होश की दवाओं में, बहक गये समीर भी
फूल की तलाश थी, अटक गये हैं खार में।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'हैप्पी बर्थ डे'
|

"बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का …

60 साल का नौजवान
|

रामावतर और मैं लगभग एक ही उम्र के थे। मैंने…

 (ब)जट : यमला पगला दीवाना
|

प्रतिवर्ष संसद में आम बजट पेश किया जाता…

 एनजीओ का शौक़
|

इस समय दीन-दुनिया में एक शौक़ चल रहा है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

दोहे

कविता-मुक्तक

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

स्मृति लेख

आप-बीती

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं