अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रणय गीत

मन पंछी के कभी कल्पना पंखों को सहलाये,
बन कर कभी किरण आशा की अरुण नभस पर छाये।
स्वप्न-सुन्दरी सपनों में तू प्रेम सुधा बरसाये,
रचना गीत प्रणय के कविवर! कह मुझको उकसाये॥

कंचित स्वर्ण केश अवगुंठन तेरे चंद्र वदन का,
सदि देख ले भरमा जाये चंदा नील गगन का।
इठलाये इतराये जब तू मन ही मन मुसकाये,
कामदेव का तरकस खाली तीरों से हो जाये॥

कोमल कमल करों में कंचन कामिनी कलश उठाकर,
छलक छलक छलकाकर मदिरा रूप मधुप मन भाकर।
नम्र पयोधर तृषित अधर धर नव उल्लास जगाये,
रोम रोम में प्यास प्रेम की तू अद्‌भुत भड़ाकाये॥

प्राण प्रिये सच! प्रण करता हूँ प्रणय गीत प्रणयन का,
रसिक बना ले पर मुझको तू निज सौंदर्य सुमन का।
गूँजे प्रणय गीत मेरा यति, गति, लय, सुर मिल जाये,
प्रेम ताल पै यदि झूम तू बाँहों में आ जाये॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अबके बरस मैं कैसे आऊँ
|

(रक्षाबंधन पर गीत)   अबके बरस मैं कैसे…

अम्बर के धन चाँद सितारे 
|

अम्बर के धन चाँद सितारे   प्रथम किरण…

अवध में राम आए हैं
|

हर्षित है सारा ही संसार अवध  में  …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं