अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

राकेश वत्स - संस्मरण

"मैं हवा बन सकी हूँ या कि नहीं मैं नहीं जानती लेकिन इतना ज़रूर जानती  हूँ कि थकान में अपने संग रहने और अपनी हर उड़ान की पहली पाठक या श्रोता बनने का सौभाग्यशाली अवसर इस हंस ने मुझे हमेशा प्रदान किया"।

श्रीमती नवल वत्स का यह बयान केवल राकेश वत्स के पैंसठ वर्ष पूरे होने पर ही नहीं  राकेश जी की अंतिम साँस तक भी वे उन के भीतर बहती शब्द-लहरियों को सुनती चली गई और उन्हें कागज़ पर उतार ‘यादों के राजहंस’ को सजाती रही और वह वक्त भी आ गया जब हंस एक लम्बी उडारी ले कहीं सुदूर सितारों के बीच एक सितारा बन गया और पीछे छोड़ गया केवल यादें... बस्स यादें!

नवल जी कहती गयीं और मैं सुनता रहा। २८ फरवरी २००७ को हुई कार दुर्घटना में राकेश जी ने आखिरी समय तक जो तकलीफ पायी  वह सब सुन मैं भीतर तक नम हो आया। जब कभी कुछ पल के लिए दवाईयों के असर से थोड़ा आराम मिलता राकेश बोल कर या फिर इशारे से नवल को पास बुला लेते। यों नवल हर वक्त उनके समक्ष थी और इसी इंतज़ार में रहती कि कब वे उसे कुछ निर्देश दें। अस्पताल में रहते हुए जिन पलों को उन्होंने जिया वे ही ‘यादों के राजहंस’ के लिए बयान करते चले गए। अस्पताल का माहौल अन्य मरीज़ों का दर्द  अपनों का सहयोग उनका प्यार परमात्मा से माँगी गई उनके लिए लम्बी उम्र की दुआएँ उन्हें और भी संवेदन शील बनाती चली गयीं।

अचानक जब कुछ बच्चे एक बस दुर्घटना के शिकार हो गए और उन्हें अस्पताल लाया गया तो राकेश जी का डाक्टर को यही इशारा था कि पहले उन बच्चों का उपचार किया जाए।

एक नन्हे बच्चे ने राकेश जी की बाल कहानी ‘साँप का संहार’ पढ़ कर उनके लम्बे जीवन की कामना करते हुए लिखा था कि जिस तरह से चिड़ियों ने अपनी ताकत से सर्प का संहार कर विजय पा ली थी उसी तरह से आप भी अपनी ताकत से इस मौत पर विजय पा लेंगे। वह बालक उदास तो हो आया होगा लेकिन आकाश पर चमकते सितारों को देख उसका बालमन कितनी कल्पनाएँ करता हुआ अपने भावी जीवन में एक सृजनात्मक दिशा पा लेगा।

एक विशिष्ठ कहानीकार उपन्यासकार एवं कवि के रूप में राकेश वत्स प्रतिष्ठित हुए। सामाजिक और राजनैतिक मुद्दों पर राकेश की पैनी दृष्टि बनी रही।उनकी कृतियाँ ही उनके चिन्तन का माध्यम थीं। स्कूल के पाठ्य क्रम में शामिल उनकी कहानी ‘छुट्टी का एक दिन’विद्यार्थी काल में पढ़ते हुए मेरे मस्तिष्क में राकेश जी के लिए जो खाका बना  मैंने उसे अपने जीवन काल में ही साकार होते देखा। स्कूल के एक समारोह में राकेश वत्स को मुख्य अतिथि की कुर्सी पर बैठे देख मैं उनकी एक झलक पाने के लिए भीड़ के बीच में से उचक-उचक कर देख रहा था, वही व्यक्ति जीवन के कुछ पल मेरे साथ भी बाँटेगा  मैं आज भी रोमांचित हो उठता हूँ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनोखा विवाह
|

नीरजा और महेश चंद्र द्विवेदी की सगाई की…

अनोखे और मज़ेदार संस्मरण
|

यदि हम आँख-कान खोल के रखें, तो पायेंगे कि…

अपनी विलक्षण अनुभूतियाँ
|

(जब अपने मुख पर स्व. पापा की छवि देखी) आज…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं