अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सच्ची दीपावली

आज सुबह से ही रौनक़ शाम होने का इंतज़ार कर रहा था, एक-एक पल उसके लिये भारी पड़ रहा था, दीपावली के इस दिन का वह महीनों से इंतज़ार कर रहा था। आख़िर वो शाम आ ही गई। दीपावली की पूजा-अर्चना के बाद पापा, मम्मी और अपनी प्यारी बहना के साथ पटाखे फोड़ने के लिए घर के बाहर आ गया। पूरा परिवार पटाखे फोड़ने का आनंद लेने लगा। उनके इस आनंद को एक मैले-कुचैले कपड़े पहने बच्चा देख रहा था। मौक़ा मिलने पर वह बच्चा उन पटाखों के समीप पहुँचा और एक पटाखे का डिब्बा उठा कर भागने लगा। उसको पटाखे चुराते देख रौनक़ उसे पकड़ने के लिये उसके पीछे भागा। आख़िर वह रौनक़ की जान चुरा कर ले जा रहा था।

कुछ ही दूरी पर कच्ची बस्ती में उसका घर था वह बाहर से ही चिल्लाया , "भैया देखो मैं पटाखे लाया।" 

"और नये कपड़े!" यह कहते हुये उसका भाई दौड़ कर बाहर आने लगा कि अचानक से दरवाज़े से टकरा कर गिर पड़ा। वह दिव्यांग था। 

"कपड़े तो नहीं  मिले,"थोड़ा ठहर कर वह बच्चा बोला।  

"हम आज फिर नये  कपड़े नहीं पहन पायेंगें,"  भैया बोला। 

रौनक़ को यह समझते देर नहीं  लगी कि वह बच्चा जो उसके पटाखे उठा कर लाया है वह चोर नहीं है और अपने भाई के लिए उसने ऐसा किया है जो चल नहीं सकता।

इधर रौनक़ को अपने पास नहीं पाकर सभी परिवारजन परेशान हो गये, तभी रौनक़ सामने से घर आता नज़र आया। उसने अपने परिवारजनों को सारी बात बताई । सभी कुछ पटाखों, नए कपड़ों, मिठाइयों एवं दीयों के साथ उस बच्चे के घर पहुँचे और उन्हें दिये, साथ ही रौनक के परिवारजनों ने उस दिव्यांग बच्चे का ऑपरेशन करवाया और उसे अपने पैरों पर खड़ा कर दिया। 

आज रौनक़ और वह बच्चा बहुत ख़ुश थे कि ‘उनके जीवन की ये सबसे अच्छी और सच्ची दीपावली थी ।’

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं