अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सच्ची मित्रता

गर्मियों की छुट्टियों में मानव पहली बार अपने गाँव आया था। वह तेरह साल का था और आठवीं कक्षा में पढ़ता था। गाँव में उसके दादा-दादी रहते थे। उसे महानगर की अपेक्षा गाँव का वातावरण बहुत पसंद आया। उसने महसूस किया कि गाँव के लोग बहुत मिलनसार और मददगार थे। उसके दादाजी का सब लोग बहुत आदर करते थे। दादाजी उसे सुबह-शाम सैर पर ले जाते और पेड़-पौधों व खेती के नवाचारी ज्ञान के बारे में बताते और वह उनकी बातें ध्यानपूर्वक सुनता था। उसे पहली बार किताबी ज्ञान और व्यावहारिक ज्ञान में अन्तर मालूम हुआ। कुछ ही दिनों में उसके बहुत-से मित्र बन गए जिनमें भोलू से उसकी अच्छी मित्रता हो गई। भोलू उसकी उम्र का था और उसके पड़ोस में रहता था। दोपहर में सभी बच्चे मानव के आँगन में इकट्ठा हो जाते और तरह-तरह के खेल खेलते थे। मानव से वे शहर की नर्इ्र-नई चीज़ों के बारे में पूछते और अपने गाँव के बारे में बताते थे।

एक दिन मानव आँगन में बैठा अपने स्कूल का गृह-कार्य कर रहा था। दादा-दादी किसी काम से बाहर गए थे। अचानक उसे भोलू के घर से छोटे बच्चे की ज़ोर-ज़ोर से रोने की आवाज़ें सुनाई दीं। वह तुरंत भोलू के घर गया और देखा कि उसकी माँ उसके छोटे भाई गोलू को गोद में बिठाए चुप करा रही थी, लेकिन गोलू का रोना थमने को ही नहीं आ रहा था। वह बहुत चिंतित दिखाई दे रही थी। उसने पूछा, "चाची गोलू को क्या हो गया? यह इतनी ज़ोर-ज़ोर से क्यों रो रहा है?"

"बेटा कल रात से इसका बदन तप रहा है। भोलू और उसके पिता भी खेती के काम से तीन दिन के लिए दूर के गाँव गए हुए हैं। मेरा तो जी बहुत घबरा रहा है," वह रोते हुए बोली।

"चाची आप बिलकुल चिंता न करें। आप तैयार हो जाओ, हम अभी इसे डॉक्टर के पास ले जाएँगे," ऐसा कहकर मानव तेज़ी से अपने घर की ओर गया और अपनी गुल्लक से सौ रुपये निकालकर वापस आ गया। "चलिए चाची, अब देर मत करो," उसने गोलू को उठाया और बाहर निकल आया।

गाँव से डिस्पेंसरी तक का रास्ता लगभग तीन किलोमीटर था, लेकिन मानव बिना थके बच्चे को उठाए चल रहा था। जब वे डिस्पेंसरी पहुँचे तो डॉक्टर साहब भी जाने की तैयारी कर रहे थे। मानव उनके पास गया और बच्चे की तकलीफ के बारे में बताया। उसकी बातों और साहस देखकर डॉक्टर को भी आश्चर्य हुआ। उन्होंने कंपाउडर से डिस्पेंसरी खोलने को कहा।

डॉक्टर ने बच्चे की अच्छी तरह से जाँच की और कहा कि इसे वायरल हुआ है। लेकिन घबराने की बात नहीं, आप इसे ठीक समय पर ले आए अन्यथा तबियत और ज़्यादा बिगड़ सकती थी। उन्होंने मानव से सिरप और इंजेक्शन लाने को कहा। डिस्पेंसरी में ये दवाएँ ख़त्म हो गई थी। मानव तुरंत पास के मेडिकल स्टोर में गया और दवा ले आया।

डॉक्टर ने बच्चे को इंजेक्शन दिया और कुछ देर बाद दवा पिलाई। वे करीब एक घण्टे तक बाहर बैठे रहे। डॉक्टर ने कहा कि अब बच्चे की हालत सामान्य है, कल तक इसका बुखार उतर जाएगा, लेकिन इसे यह दवा दिन में तीन बार ज़रूर पिलाते रहना। मानव ने बच्चे को उठाते हुए, डॉक्टर का धन्यवाद किया और घर को चल दिए। मानव ने गोलू को नियम से दवा पिलाई। जब तीसरे .दिन सुबह वह भोलू के घर गया तो भोलू की माताजी ने बताया कि बेटा अब इसका बुखार उतर गया है। यह सुनकर वह बहुत ख़ुश हुआ।

शाम को भोलू मानव के पास गया और दोनों सैर करने चल पड़े। वे बातें करते-करते टहल रहे थे। तभी मानव बोला, "भोलू अब मेरी छुट्टियाँ समाप्त होने वाली है और मुझे शहर जाना होगा, लेकिन मुझे तुम्हारी बहुत याद आएगी। तुम जैसा दोस्त पाकर मुझे बहुत खुशी हो रही है।"

"तुम ठीक कहते हो, मित्र तो बहुत होते हैं मानव, लेकिन सच्ची मित्रता क्या होती है, यह मैंने तुमसे मिलकर जाना। मैं तुम्हें आजीवन याद रखूँगा," ऐसा कहकर भोलू उसके गले लग गया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आँगन की चिड़िया  
|

बाल कहानी (स्तर 3) "चीं चीं चीं चीं" …

आसमानी आफ़त
|

 बंटी बंदर ने घबराएं हुए बंदरों से…

आख़िरी सलाम
|

 अखिल भारतीय कहानी प्रतियोगिता में…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

बाल साहित्य कहानी

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं