अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

तमाशा

कोरोना काल की इस संकट घड़ी में यदि भूख से कोई अधीर हो रहा है तो वो है मज़दूर। पहाड़ों को तोड़कर, ज़मीन की काटकर रास्ता बनाने वाला, कल-कारखानों में पसीना बहा पैसा कमाने वाला।

सोशल मीडिया के इस दौर में कुछ एक लोगों ने इन मज़दूरों की भूख पर चिंता व्यक्त  की।

फिर क्या था समाज के कुछ एक धनिक वर्ग, सामाजिक कार्यकर्ताओं व विभिन्न दलों से जुड़े नेताओं में इनकी बेबसी का तमाशा बनाने की होड़-सी मच गई। तब शुरू हुआ इनकी मदद करने का दिखावटी सिलसिला।

इसी क्रम में ईटानगर के प्रतिष्ठित साहूकार गुरन बसर की कोठी में समाज के कुछ प्रतिष्ठित लोगों की बैठक रखी गई जिसमें ग़रीब, बेघर मज़दूरों की सहायता कैसे की जाए पर चर्चा की जा रही थी। पास ही एक टेबल पर मज़दूरों को बाँटने के लिए राशन का समान रखा हुआ था।

कोठी के बाहर ही चौखट के किनारे पालथी मार गुरन बसर के यहाँ काम करने वाला एक माली, जिसे इस संकट की घड़ी में  काम में आने से मना कर दिया गया था, बैठे हुए ईश्वर तुल्य मालिक से मिलने के लिए अधीर था। शायद कुछ मदद की आस से आया हो। उसके पिचके गाल, करुणा से भरी आँखें ही उसका सारा हाल कह रही थीं।

बैठक समाप्त हुई , मालिक की नज़र  माली पर पड़ी तो डाँटते हुए  तीख़े लहज़े में कहा कि क्या तुम मुझे मरवाओगे, घर पर आराम करो, मालूम है न कोरोना वायरस फैला है, मुझे बहुत काम है। मालिक की डाँट सुन कर वह मूक हो कहीं और काम की तलाश में निकल गया। 

अगली सुबह शहर में चर्चा थी... गुरन बसर ने एक हज़ार गरीब मज़दूरों को अन्न, राशन बाँटा। संकट की घड़ी में भगवान बन असहायों की सहायता की।
लेकिन माली को इन ख़बरों से क्या?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं