अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वृक्षवैभव

(मूल गुजराती से हिन्दी अनुवाद)
कवि : स्वर्गीय ज्योतिष महेता
अनुवादक : डॉ. रजनीकान्त शाह

 

पात पात जब कूजन फूटे,
मुझे कोंपल कोंपल दंश लगे।
डाल डाल मेरी नीड़ बने
तो हरीभरी सारी उम्र लगे।
कलरव, केकारव, कूहुक और चींचीं
गूँजे कान में जहाँ हर साँझ
संगीतसंध्या मेरे संग रंग में आई
मानो, मन में रोज़ मुझे लगे।
किसी महल के कमरे, ये नीड़ मानों।
और पंछीगण राजकुमार लगे।
बंदर कूदकर तोड़े यदि नीड़,
तो मन में दु:ख अनहद जगे।
वे बेचारे भी जाएँ तो कूदने कहाँ?
बिजली के तार हैं सर्वत्र लगे।
जंगल और सिवान तो कर दिये विदा दूर-सुदूर,
सीमेंट के पेड़ जाएँ सर्वत्र बोये।
समझदार है मानुष तो समझता नहीं क्यों?
समस्या का अंत लाता नहीं क्यों?
वृक्ष और जंगल का करके जतन
पर्यावरण बचाता नहीं क्यों!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अजनबी औरत
|

सिंध की लेखिका- अतिया दाऊद  हिंदी अनुवाद…

अनुकरण
|

मूल कवि : उत्तम कांबळे डॉ. कोल्हारे दत्ता…

अपनी बेटी के नाम
|

सिंध की लेखिका- अतिया दाऊद  हिंदी अनुवाद…

अपने मठ की ओर
|

अपने मठ की ओर  (पंजाबी कविता) लेखक…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

अनूदित आलेख

अनूदित कविता

अनूदित कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं